33 केवीए तार पर टूटकर गिरा पेड़, विद्युत आपूर्ति पूरी तरह हुई ठप

बलिया(संजय कुमार तिवारी): बिल्थरारोड में जर्जर तार के चलते विद्युत आपूर्ति चरमरा गई है। शायद ही ऐसा कोई दिन हो जब विद्युत आपूर्ति निर्बाध रूप से यहां के लोगों को मुहैया हुई हो। रविवार को भी सिकन्दरपुर के नवानगर में 33 केवीए के तार पर एक पेड़ के गिरने से यहां की आपूर्ति ठप चल रही है। विद्युत आपूर्ति में बार – बार बाधा से क्षेत्रीय लोगों में काफी आक्रोश है. जनपद से 65 किमी दूर स्थित बिल्थरारोड तहसील जनप्रतिनिधियों, शासन व प्रशासन तीनों स्तर से उपेक्षित है। जहां जनपद के अन्य तहसीलों में विद्युत आपूर्ति के लिए 132/33 केवीए का विद्युत सब स्टेशन स्थापित है, वहीं यह तहसील विद्युत आपूर्ति के लिए करमौता (सिकन्दरपुर) व मऊ क्षेत्र के कसारा स्थित 132/33 केवीए के विद्युत सब स्टेशन पर आश्रित है। इतना ही नहीं यहां पर अभी भी कोतवाली व अग्निशमन केंद्र की बिल्डिंग भी बनने की प्रक्रिया में है। क्षेत्र में अत्यधिक गर्मी, ठण्ड या बरसात के दौरान यहां की आपूर्ति काफी दयनीय हो जाती है। कारण जर्जर तारों का बार-बार टूटना। आंधी आदि के दौरान तो 36 से 48 घंटे के लिए विद्युत आपूर्ति का जाना तय है। वर्तमान अवर अभियंता अवधेश कुमार फिलहाल विद्युत आपूर्ति में कोई बाधा न हो इसके लिए लगातार टूट रहे तारों को जुड़वाने के कार्य में तत्पर रहते हैं परन्तु विद्युत बहाल होते ही यह कहीं और से ट्रिप हो जाती है। रविवार को भी सिकन्दरपुर क्षेत्र के नवानगर स्थित सेंट्रल बैंक के पास एक बबूल का पेड़ 33 केवीए के तार पर गिर जाने से बिल्थरारोड की विद्युत आपूर्ति घंटों से बाधित चल रही है। प्रदेश सरकार द्वारा विद्युत आपूर्ति में सुधार के बावजूद नगर व क्षेत्र में जर्जर तारों के चलते विद्युत आपूर्ति लगातार पड़ रही बाधा से क्षेत्रीय लोगों में काफी आक्रोश है।