ट्रकों की रेस लगाई अब इलेक्ट्रिक बस की थामी स्‍टेयरिंग पूजा

 ट्रकों की रेस लगाई अब इलेक्ट्रिक बस की थामी स्‍टेयरिंग पूजा

गोरखपुर(राजेश पांडेय): बदलते भारत की लड़कियां अब किसी काम को ठान लेती हैं तो पीछे नहीं हटती हैं। इस बात को भारी वाहन का पहला ड्राइविंग लाइसेंस हासिल करने वाली पूजा प्रजापति कदम-कदम पर साबित कर रही हैं। इलेक्ट्रिक बस की स्टेयरिंग थाम सुर्खियों में आने वाली पूजा हॉकी की नेशनल खिलाड़ी हैं। तैराकी में भी वे अन्य लड़कियों के लिए प्रेरणास्रोत हैं। नोएडा में ट्रकों का रेस लगा चुकी पूजा लड़कियों के लिए ड्राइविंग एकेडमी स्थापित करना चाहती हैं।दिव्यनगर कॉलोनी में रहने वाली पूजा पांच भाई-बहनों में सबसे छोटी हैं। शुरू से मेधावी पूजा ने जब ट्रक की स्टेयरिंग थामी तो परिवार का सर्पोट मिला लेकिन पड़ोसी चिढ़ाते थे। पूजा बताती हैं कि ‘पापा का पूरा सर्पोट था, लेकिन भारी वाहन चलाने पर पड़ोसी चिढ़ाते थे। कहते थे कि अच्छे परिवार की होकर ट्रक चलाओगी।’ पूजा बताती हैं कि ‘हमेशा यह इच्छा रही कि वह काम करूं जो लड़कियों के लिए वर्जित मानी जाती हैं। इसी जिद में वर्ष 2015 में भारी वाहन का ड्राइविंग लाइसेंस हासिल किया। नोएडा में टाटा द्वारा आयोजित भारी वाहनों के रेस में प्रतिभाग किया। इलेक्ट्रिक बस नौकरी के लिए चला रही, लड़कियों को ये संदेश देने के लिए चला रही हूं कि कोई काम नमुमकिन नहीं है।’ पांच साल पहले पूजा ने स्वीमिंग सीखना शुरू किया।

अब वह सैयद मोदी स्टेडियम में पुराने खिलाड़ियों से मोर्चा लेती हैं। स्वीमिंग कोच संतोष श्रीवास्तव कहते हैं कि ‘पूजा में सीखने और कुछ कर गुजरने का गजब का जज्बा है। लीक से हटकर काम करने की जिद ही पूजा को निरंतर सफलता के शिखर पर पहुंचा रहा है। बता दें कि पूजा के पिता बेचन प्रसाद बड़े ट्रांसपोर्टर हैं। सहजनवा में उनका पेट्रोल पंप है। एनसीआर में विदेशी गाड़ियों का वर्कशॉप है। दो भाई और दो बहनों की शादी हो चुकी है।मां और दो बहनें भी चलाती हैं गाड़ी पूजा की मां सोनमती देवी के साथ दो अन्य बहनें भी चार पहिया गाड़ी चलाती हैं। परिवार में गाड़ी होने के चलते किसी को ड्राइविंग सीखने में दिक्कत भी नहीं हुई। पूजा बताती हैं कि ‘मां ने हमेशा बताया कि कोई काम असंभव नहीं है। जो लीक से हटकर काम करता है, वही जिंदगी मे सफल होता है। पूजा बताती है कि ‘2016 में नोएडा में ट्रकों की रेस में भाग लेने गई तो लोग हंस रहे थे। पिता ने सर्पोट किया और हर कदम पर मोटीवेट किया।हॉकी की नेशनल खिलाड़ी हैं पूजा बहुमुखी प्रतिभा की धनी पूजा हॉकी की नेशनल खिलाड़ी हैं।

वह महाराष्ट्र और गुजरात में हुई प्रतियोगिताओं में यूपी का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। एनएसएस की तरफ से वह गणतंत्र दिवस के परेड में भी शिरकत कर चुकी है। एनसीसी में सी सर्टिफिकेट हासिल करने वाली पूजा कहती हैं कि ‘मुख्यमंत्री से मुलाकात हुई तो लड़कियों के लिए ड्राइविंग एकेडमी खोलने का अनुरोध करूंगी। इससे महिलाओं को रोजगार तो मिलेगा ही, आत्मविश्वास भी बढ़ेगा।’ पूजा को पढ़ा चुकी चंद्रकांती रमावती देवी आर्य महिला पीजी कॉलेज एमएड में विभागाध्यक्ष डॉ.रेखा श्रीवास्तव बताती हैं कि ‘सांस्कृतिक प्रस्तुतियों से लेकर हर खेल में पूजा माहिर है। वह उन लड़कियों के लिए प्रेरणास्रोत है जो समाज में कुछ अलग पहचान बनाना चाहती है।

न्यूज़ क्राइम 24 संवाददाता

Related post