मां ने नवजात को फेंका सड़क किनारे, रोने की आवाज सुन पुलिस ने बचाई जान

फुलवारीशरीफ(अजीत यादव): पटना में परसा बाजार थाना में तैनात ट्रेनी डीएसपी प्रिया जोशी ने ड्युई के साथ ही ममता की मिसाल पेश करते हुए सड़क किनारे फेंका हुआ नवजात बच्चे की जान बचाई । ट्रेनी डीएसपी को जब सड़क किनारे एक झोला में नवजात बच्चा फेंका हुआ मिलने की जानकारी प्राप्त हुई। इसके बाद दलबल के साथ फौरन घटनास्थल शिवचक के पास ट्रेनी डीएसपी पहुंची । जहां सड़क किनारे एक झोले में कुछ घंटों का जन्मा हुआ नवजात बच्चा को झोले में  लावारिस मरने के लिए किसी निर्दयी ने छोड़ दिया था।  मासूम बच्चे को झोले में लिपटा हुआ जिंदगी के अंतिम सांसे गिनता देख ट्रेनी डीएसपी प्रिया जोशी की ममता जाग उठी और वह बच्चे को सीने से लगाकर तत्काल अस्पताल पहुंची ।  पुलिस ने सबसे पहले नवजात का इलाज कराया । बच्चा पूरी तरह स्वस्थ्य देख ट्रेनी डीएसपी की गोद मे किलकरियाँ भरने लगा मानो वह अब मां की गोद मे आ गया हो। हालांकि उसे जन्म देने वाली अभागी माँ ने न जाने किस परिस्थितियों में उसे मरने के लिए सड़क किनारे फेंक गयी थी। ट्रेनी डीएसपी प्रिया जोशी ने बताया की सड़क किनारे मासूम के रोंने की आवाजें सुनकर पुलिस को किसी ने खबर दी। जब वे खुद वहां पहुंची तो मासूम की सांस चल रही थी तो उसे बिना देर किए अपने छाती से लगा अस्प्ताल ले गयी। नवजात का जरूरी इलाज कराने के बाद उसे पद्मश्री सुधा वर्गीज के नारी गुंजन संस्था द्वारा संचालित सृजनी दत्तक ग्रहण संस्थान को सौंप दिया गया।