समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को कोविड-19 सेंटर बनाने की उठी मांग

बलिया(संजय कुमार तिवारी): मनियर थाना क्षेत्र के रिगवन में करोड़ों रुपए की लागत से बना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शो पीस बना हुआ है। हॉस्पिटल तो ऐसा है कि उसके सामने जिला अस्पताल भी फेल है लेकिन क्या फायदा? कहावत वही है कि “नाम गुलाबचंद सुगंध कुकुरौन्हो के ना।”उक्त हॉस्पिटल की बुनियाद बसपा शासनकाल में 2007 से 2012 के बीच तत्कालीन बसपा विधायक भगवान पाठक के कार्यकाल में रखा गया था। हॉस्पिटल मंथर गति से बनता रहा ।करीब 2 वर्ष पूर्व हॉस्पिटल बनाकर स्वास्थ्य विभाग को हैंडोवर भी कर दिया गया है लेकिन आज तक हॉस्पिटल में न तो कोई उपकरण लगा नहीं डॉक्टर बैठा। कुछ वर्ष पूर्व बाढ़ क्षेत्र का दौरा करने पहुंचे तत्कालीन डीएम भवानी सिंह खंगारौत के समक्ष लोगों ने अपनी व्यथा व्यक्त करते हुए हॉस्पिटल चालू कराने की मांग की थी ।उन्होंने दो दो बार उक्त हॉस्पिटल का निरीक्षण भी किया था तथा चालू कराने के लिए तत्कालीन सीएमओ से वार्ता भी की थी। इसके बावजूद आज तक हॉस्पिटल चालू नहीं हो सका ।एक चौकीदार के पास उसका चाबी रहता है। नवनिर्वाचित प्रधान सतेन्द्र कुमार पाठक उर्फ लड्डू पाठक ने शासन प्रशासन से मांग की है कि इस हॉस्पिटल को तत्काल चालू कराया जाय ।फिर हाल इस दैविक आपदा में अगर कोविड-19 सेंटर भी बना दिया जाता तो लोगों को काफी सहूलियत हो जाती।