कोरोना काल में एम्बुलेंस को लेकर भाजपा सांसद रूड़ी के किरकिरी बाद, अब अररिया सांसद प्रदीप सिंह की बारी!

 कोरोना काल में एम्बुलेंस को लेकर भाजपा सांसद रूड़ी के किरकिरी बाद, अब अररिया सांसद प्रदीप सिंह की बारी!
Advertisement
Ad 3
Advertisement
Ad 4
Digiqole Ad

अररिया(रंजीत ठाकुर): कोरोना काल में संक्रमित मरीजों का मदद करते हुए जाप सुप्रीमों पप्पू यादव ने सारण जिला के सांसद राजीव प्रताप रूड़ी के फार्म हाउस में दर्जनों एम्बुलेंस रखने का मामला को पर्दा फाश करते हुए सरकार पर जमकर निशाना साधा। तो वहीं अभी फिलहाल जेल में है । मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ कि अररिया सांसद निधि से खरीदा गया एंबुलेंस पर रानीगंज विधानसभा क्षेत्र में जाप के युवा नेता ने कहा कि अररिया भाजपा सांसद प्रदीप कुमार सिंह के द्वारा बर्ष 2010 में सांसद निधि से एम्बुलेंस खरीद कर अनुमंडल अस्पताल रानीगंज को दिया था, जिसका 10 वर्ष बीत जाने के बाद भी रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाया और एंबुलेंस आज 10 वर्षों से कचरे के ढेर में पड़ा पड़ा धूल फांक रहा है।
उक्त मामले को जाप के वरिष्ठ नेता विक्टर यादव ने आवाज उठाते हुए सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, कि जहां एम्बुलेंस सेवा को लेकर लोग आज मर रहे है।वहीं 10 बर्ष में मात्र 228किलोमीटर एम्बुलेंस चल कर मरीजों को सेवा दिया था,जो आज कबाड़ा हो गया है। बिहार सरकार के स्वास्थ विभाग के व्यवस्था के पोल खोलता राष्ट्रीय युवा महासचिव जाप नेता जितेंद्र उर्फ जेडी यादव रानीगंज।

Advertisement
GOLU BHAI
Advertisement
MS BAG

क्या कहते हैं सिविल सर्जन अररिया एमपी गुप्ता:-

इस बाबत सिविल सर्जन ने बताया कि अररिया सांसद निधि से दस एंबुलेंस 2010में खरीद की गई थी जिसमें दो एंबुलेंस चालू है।रानीगंज अस्पताल के एंबुलेंस के संबंध में उन्होंने बताया कि खराब हो जाने के कारण एंबुलेंस पड़ा होगा। जानकारी नहीं है जानकारी लेकर बताएंगे। क्या कहते हैं रानीगंज अस्पताल प्रभारी डॉ०संजय कुमार:- इस बाबत डॉ संजय कुमार ने बताया कि एंबुलेंस से संबंधित मुझे कोई जानकारी नहीं प्राप्त है मैनेजर साहब से बात कर लीजिए।

Advertisement
Ad 2

क्या कहते हैं अस्पताल मैनेजर ख़ातिब:-
इस बाबत मैनेजर साहब ने बताया कि लगभग 8 वर्षों पूर्व से एंबुलेंस पड़ा हुआ है उन्होंने खुलासा किया कि एंबुलेंस को चलाने का ड्राइवर, व डीजल एवं टेक्निशियन का व्यवस्था नहीं होने के कारण एंबुलेंस पड़ा हुआ है।
यह सब जानने के बाद विभाग की लापरवाही कहा जाए या विभाग की नाकामी, लाखों रुपये का एंबुलेंस व्यवस्था के चलते बेकार पड़ा है। जिसको देखने वाला स्वास्थ्य विभाग में कोई नहीं है।

Digiqole Ad

News Crime 24 Desk

Related post

error: Content is protected !!