टीकाकरण अभियान को बढ़ावा देने के लिये ग्रामीण इलाकों में होगा चौपाल का आयोजन

  • जिलाधिकारी की अध्यक्षता में हुई डिस्ट्रिक्ट कंम्युनिकेशन टास्क फोर्स की बैठक, सामने आये कई सुझाव
  • मुख्यमंत्री करेंगे छह माह में छह करोड़ लोगों के टीकाकरण अभियान को लॉच
  • 21 जून को विशेष अभियान होगा संचालित, 30 हजार लोगों को टीका लगाने का है लक्ष्य

अररिया(रंजीत ठाकुर): कोरोना टीका को लेकर फैली भ्रांतियों व अफवाहों को दूर करते हुए टीकाकरण को गति देने की कवायद जिले में जोरों पर चल रही है। इसी क्रम में 21 जून को आयोजित होने वाले विशेष टीकाकरण अभियान को सफल बनाने के लिये अलग-अलग रणनीतियां भी बनायी जा रही हैं। कोशिश ये हो रही है कि कोरोना टीका की अहमियत व कोरोना वायरस के हमले से सुरक्षित रहने के लिये टीका की उपयोगिता की बात जिले के सभी गांव तक पहुंचे। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए जिलाधिकारी प्रशांत कुमार सीएच की अध्यक्षता में शुक्रवार को जिला कम्युनिकेशन टास्क फोर्स की बैठक समाहरणालय स्थित आत्मन हॉल में संपन्न हुई।

ग्रामीण स्तर पर होंगे चौपाल आयोजित :

बैठक में अलग-अलग सदस्यों द्वारा साझा किए गये अनुभवों से ये बात सामने आई कि कोरोना टीका को लेकर अब भी कुछ लोगों में हिचकिचाहट बाकी है। जिलाधिकारी ने संशय के कारणों का पता लगाते हुए इसे दूर करने के लिये आवश्यक सुझाव संबंधित अधिकारियों को दिया। जिलाधिकारी ने इसे लेकर स्वास्थ्य अधिकारियों को पंचायत व गांव स्तर पर वैक्सीनेशन चौपाल के आयोजन का निर्देश दिया। डीएम ने कहा कि वैसे गांव व पंचायत जहां के लोगों द्वारा टीका लेने से इनकार की खबर मिल रही है। वहां प्राथमिकता के आधार पर चौपाल आयोजित किये जायें। डीएम ने कहा चौपाल में स्वास्थ्य विभाग से संबंद्ध सहयोगी संस्था के प्रतिनिधि, विकास मित्र के अलावा स्थानीय धर्म गुरु, जनप्रतिनिधि व प्रभावशाली लोगों को शामिल किया जाये| ताकि लोगों में टीकाकरण को लेकर बेहतर समझ विकसित की जा सके।

जिले में टीका पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध :

जिलाधिकारी ने 21 जून को जिले में आयोजित होने वाले मिशन 30 हजार की सफलता में समाज के सहयोग की आवश्यकता पर जोर दिया। डीएम ने कहा कि ये सुखद संयोग है कि उसी दिन बिहार के सीएम नीतीश कुमार भी छह माह में छह करोड़ लोगों के टीकाकरण अभियान को लांच करेंगे। मिशन 30 हजार के लिये कोरोना टीका के आवश्यक डोज की बाबत उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रयाप्त मात्रा में टीका उपलब्ध करा दिया गया है। सहयोग के लिये उन्होंने विभाग के अपर मुख्य सचिव और राज्य के वरीय अधिकारी अनिमेष पराशर का आभार भी जताया।

लोगों को प्रेरित करने बनाये जायेंगे छोटे-छोटे वीडियो :

बैठक में शामिल सदस्यों की ओर से आये कुछ सुझाव के आधार पर ये निर्णय लिया गया कि विभिन्न धर्मों व समुदाय के उन प्रभावशाली व्यक्तियों के उनके संदेश के साथ छोटे-छोटे वीडियो बनाये जाएंगे। जिन्होंने कोरोना का टीका ले लिया है। ऐसे वीडियो विभिन्न माध्यमों से गांव-गांव प्रसारित किये जाएंगे। ताकि लक्षित आयु वर्ग के लोगों में टीका को लेकर कोई भ्रम न रहे। लोग कोरोना का टीका लगवाने के लिये स्वेच्छा से आगे आएं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को डीएम ने सभी 218 पंचायत का अलग-अलग वीडियो बनाने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने की जिम्मेदारी सौंपी।

प्रति सेशन साइट 10 प्रेरक (मोबिलाइजर) होंगे प्रतिनियुक्त :

डीएम ने कहा कि 21 जून के टीकाकरण अभियान की तैयारी चल रही है। प्रति सेशन साइट 10 प्रेरक (मोबिलाइजर) प्रतिनियुक्त करने की योजना बनी है। जल्द ही चयनित टीकाकरण स्थलों की सूची सार्वजनिक करने का निर्देश उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दिया। डीएम ने कोरोना टीका को लेकर फैली भ्रांतियों को दूर करने में स्थानीय मीडिया कर्मियों की भूमिका की सराहना तो की ही साथ ही निरंतर सहयोग की अपेक्षा भी की। बैठक में गांव स्तर पर माताओं की बैठक आयोजित करने पर भी विचार हुआ। वहीं चयनित धार्मिक स्थलों के आस-पास टीकाकरण स्थल के आयोजन पर भी सदस्यों की राय ली गयी।

बैठक में थे मौजूद-

बैठक में डीडीसी मनोज कुमार, सीएस डॉ एमपी गुप्ता, जिला शिक्षा पदाधिकारी राज कुमार, डीआईओ डॉ मो मोइज, आईसीडीएस डीपीओ सीमा रहमान, डीपीएम रेहान अशरफ, पिरामल स्वास्थ्य के डीटीएम डॉ अफरोज, डिटीएल केयर पर्णा चक्रवती, यूनिसेफ से आदित्य कुमार, यूएनडीपी के वीसीसीएम शकील आजम, योग प्रशिक्षक विजय कुमार सिंह, पेंशनर समाज के मो मोहसिन व जफरुल हसन व एडीपीआरो दिलीप सरकार सहित अन्य मौजूद थे।