पेट्रोल-डीजल,रसोईगैस सहित दवाओं की कीमतों में भी आई उछाल

जमुई(मो० अंजुम आलम): अभी कोरोना की मार से लोग उभर नहीं पाए और अब महंगाई ने आम से लेकर खास लोगों की कमर को तोड़ दिया है। बेतरतीब बढ़ती मंहगाई ने लोगों का जीना दुश्वार कर दिया है। कोरोना को लेकर लगाए गए लॉक डाउन के बाद से एक ओर प्याज़, हरि सब्ज़ी के दाम तो लोगों रुला ही रही है तो वहीं किराना संबंधित खाद्यसामग्री के अलावा रसोईगैस के दाम में भी बेतरतीव बढ़ोतरी हो गई है। अबतो लोगों का सड़कों पर चलना भी दुश्वार हो गया है। पेट्रोल और डीजल के मूल्यों में बेतरतीव वृद्धि भी वाहनों पर ब्रेक लगाना शुरू कर दिया है। जहां हरि सब्ज़ियां 10 से 15 रुपए किलो में आसानी से उपलब्ध हो जाती थी वहां अब सब्ज़ियां 40 से 50 रुपए किलो मिल रही है जिससे गरीबों की थाली से सब्ज़ियां दूर होती जा रही हैं। वहीं गृहणियों के किचन का बजट भी बिगड़ गया है। इसके अलावा अगर दवाइयों की बात करें तो अधिकांश अंग्रेजी दवाइयों के मूल्यों में भी 20 फीसद तक की वृद्धि हुई है। हालांकि जेनरिक की कुछ दवाओं के मूल्यों में वृद्धि हुई है। अमीषा फार्मा के संचालक ने बताया कि जेनरिक की अधिकांश दवाइयों का मूल्य स्थिर है सिर्फ खांसी की दवाइयों में 10 फीसद तक कि वृद्धि हुई है। अंग्रेजी की कई ऐसी भी दवाइयां हैं जिसके मूल्यों में 30 प्रतिशत तक कि वृद्धि हुई है। जिससे खास कर गरीब मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

एक नजर दवा की मूल्यों पर-

अंग्रेजी दवा का नाम-पहले-अबटेटवेट — 10 11
डायलोना– 19 22
पेंटॉप डी— 89 93
एविल सुई– 10 11
डेकसोना– 07 10
पेन फोर्टी– 48 50
एजिथ्रोमाइसीन– 65 70
लिम सी– 15 22
डुफास्टन– 609 660
बेटाडीन– 85 130
मुकैन जेल– 151 166
सिमिलेक– 180 195
लैक्टोजैन– 312 330
जॉन सुई– 58 60
लाइसो फ्लाम– 90 110
अल्थोसीन– 76 84
नुपेंटा– 41 46