पिरामल स्वास्थ्य ने स्वास्थ्य विभाग को फिर उपलब्ध कराया 14 ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर व 400 फेसशील्ड मास्क

  • अब तक पिरामल स्वास्थ्य ने विभाग को उपलब्ध कराये 24 ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर, 140 प्लस ऑक्सीमीटर व 400 फेसशील्ड मास्क
  • जिलेवासियों को बेहतर चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से पिरामल का सहयोग महत्वपूर्ण

अररिया(रंजीत ठाकुर): वैश्विक महामारी के दौर में जिलेवासियों को बेहतर चिकित्सीय सेवा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से विभिन्न गैर सरकारी संस्था द्वारा जिला स्वास्थ्य विभाग को जरूरी चिकित्सीय उपकरण उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इसी क्रम में नीति आयोग से संबंद्ध स्वास्थ्य विभाग की सहयोगी संस्था पिरामल स्वास्थ्य ने अब तक विभाग को 24 ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर, 160 प्लस ऑक्सीमीटर व 400 फेस शील्ड मास्क उपलब्ध कराया है। संस्था द्वारा विभाग को उक्त सामग्री दो खेप में उपलब्ध कराया गया है। बीते शनिवार को जहां पिरामल ने स्वास्थ्य विभाग को 10 ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर व 160 प्लस ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराया था। तो इसी क्रम में बुधवार की शाम संस्था द्वारा जिला स्वास्थ्य विभाग को 12 ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर व 400 फेस शील्ड मास्क उपलब्ध कराया है। अस्पताल परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पिरामल स्वास्थ्य के डीटीएम डॉ अफरोज ने सिविल सर्जन डॉ एमपी गुप्ता को उक्त सामग्री उपलब्ध कराया। मौके पर सिविल सर्जन सहित डीपीएम रेहान अशरफ, डीआईओ डॉ मोईज, डीएएम सनोज कुमार, डीटीएल केयर पर्णा चक्रवती, एसएमओ आदित्य झा, डीएमएनई सभ्यसाची पंडित, डीसीएम रमण कुमार, एबीटीओ मनीष कुमार के अलावा विभागीय कर्मी आशुतोष कुमार, अनिल शर्मा, नवकांत यादव, मो सहवाज आलम, मो आरिफ, संजय पासवान, रिजवान अहमद, कमरूल होदा, अमरेंद्र कुमार सहित अन्य मौजूद थे।

स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने में मिलेगी मदद

कार्यक्रम के दौरान सिविल सर्जन अररिया डॉ एमपी गुप्ता ने इस वैश्विक महामारी के दौर में जिलेवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से पिरामल के सहयोग को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा पिरामल द्वारा विभाग को उपलब्ध कराये गये 24 ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर कोरोना मरीजों के इलाज के दौरान ऑक्सीजन संबंधी जरूरतों को पूरा करने में बेहद मददगार साबित होगा। इसकी मदद से ग्रामीण इलाकों में मौजूद चिकित्सकीय संस्थानों पर भी ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराया जा सकेगा। ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होने से ऑक्सीजन सिलिंडर की खपत कम होगी। इससे कोरोना संबंधी मौत के मामलों को कम करने में मदद मिलेगी। डीपीएम रेहान असरफ ने कहा कोरोना काल खत्म होने के बाद भी उक्त उपकरणों की उपयोगिता यथावत बनी रहेगी। सभी प्रसव गृह में ऑक्सीजन की उपलब्धता महत्वपूर्ण है। जो मातृ-शिशु मृत्युदर के मामलों में कम करने में बेहद मददगार है। इसके अलावा हिट एप की मदद से संक्रमितों की ट्रैकिंग संबंधी कार्य में प्लस ऑक्सीमीटर महत्वपूर्ण है। तो स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा के लिहाज से फेस शील्ड मास्क को उन्होंने उपयोगी बताया।

कोरोना मरीजों का बेहतर इलाज होगा संभव

डीटीएम पिरामल डॉ अफरोज के मुताबिक अररिया नीति आयोग द्वारा चिह्नित आकांक्षी जिलों की सूची में शामिल हैं। जहां स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिये पिरामल स्वास्थ्य अपना उचित सहयोग व समर्थन दे रहा है। इसकी क्रम में संस्था द्वारा अब तक जिला स्वास्थ्य विभाग को 24 ऑक्सीजन कॉसेंट्रेटर, 160 प्लस ऑक्सीमीटर व 400 फेस शील्ड मास्क उपलब्ध कराया है। जो कोरोना मरीजों के बेहतर इलाज के लिहाज से महत्वपूर्ण है।