“सौ करोड़ का कवि” सिटी के अमनदीप बने विजेता, जदयू ने किया सम्मानित

[Edited By: Robin Raj]

पटनासिटी(न्यूज़ क्राइम 24): डीडी किसान चैनल पर प्रसारित सौ करोड़ के कवि सम्‍मेलन कार्यक्रम के फिनाले में पटना सिटी के कालीस्थान निवासी कपड़ा व्यवसायी सरदार रवींद्र सिंह के इंजीनियर पुत्र सरदार अमनदीप सिंह विजेता बने हैं. जिसको लेकर लोगों में खुशी की लहर है उनको चारों तरफ से बधाइयां मिल रही है. इसी को लेकर जदयू की टोली उनके आवास पर पहुंच उनको और उनके परिवार वाले को सम्मानित किया.

बीते तीन जनवरी से 27 जून तक प्रत्येक रविवार की रात नौ बजे डीडी किसान चैनल पर प्रसारित होने वाला यह देश का पहला कविता का रियलिटी शो बताया जा रहा है. इसमें देश के विभिन्न राज्यों से 40 कवियों ने हिस्सा लिया. अमनदीप ने बताया कि हिंदी कवियों पर आधारित इस शो में निर्णायक की भूमिका में प्रसिद्ध कवि पद्मश्री अशोक चक्रधर तथा गीतकार समीर अंजान थे. सौ करोड़ के इस कवि सम्‍मेलन प्रतियोगिता के फाइनल में चार प्रतिभागी पहुंचे. रविवार की रात फाइनल में अमनदीप सिंह के अलावा रजत सूद, श्वेता सिंह व विनीत शंकर थे.

न्यूज़ क्राइम 24 को अमनदीप बताते हैं कि फील्ड कोई सा भी हो अगर उसमें पूरी मेहनत और जी जान से लग जाये तो सफलता जरूर मिलती है, और आज वो दिन देखने को मिला. अमनदीप ने बताया कि विजेता की घोषणा से पहले वाहे गुरु जी का जाप कर रहे थे. उन्हें पूरा विश्वास था कि गुरु के आशीष से विजेता बनेंगे. उन्होंने आगे बताया कि उनको बचपन से ही कविताओं में गहरी रूचि रही है. तो वहीं पिता सरदार रवींद्र सिंह तथा मां अमरदीप कौर हमेशा उनकी हौसला-आफजाई करते रहते थे.

अमनदीप के इस सफलता पर जदयू की टोली उनके आवास पर पहुंच कर अमनदीप उनकी माता अमरदीप कौर, पिता रविन्द्र पाल सिंह और  चाचा तख्त श्री हरिमन्दिर जी पटना साहिब सदस्य जगजोत सिंह सोही को पगड़ी, अंगवस्त्र, पुष्पमाला पहनाकर उनको सम्मानित किया और उनको मिठाई खिलाकर शुभकामनाएं दी. इसके साथ ही जदयू नेता अभिषेक पैट्रिक ने जामुन और शरीफा का पौधा अपने हाथों से भेटस्वरूप दिया. इस मौके को यादगार बनाते हुए दर्जनों से ज्यादा राष्ट्रीय और राज्यस्तरिय हिंदी कविता और शायरी प्रतियोगिता के प्रथम विजेता सरदार अमनदीप सिंह ने कविता- शेर को पानी मछली को जिन्दगानी में, हमने रखा कुदरत को हैरानी में, जैसे बोल समर उठते है राग पहनकर रोटी दुल्हन बन जाती है आग पहनकर, तितली के हिस्से के फूलों को मत छेड़ो वरना उड़ जाएगी बाग पहनकर जैसे कई उत्कृष्ठ कविता को गाकर सुनाए. इस मौके पर जदयू कार्यकर्ता कन्हाई पटेल, राजमणी पण्डित, सन्नी यादव, अधिवक्ता रवि गुप्ता, अभिषेक पैट्रिक, राम पाठक, विशाल कुमार ठाकुर, पप्पू मेहता एवम कृष्णा पटेल सहित दर्जनों लोग मौजूद थे।