पोषण के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य विभिन्न कार्यक्रम का हुआ आयोजन

अररिया(रंजीत ठाकुर): बच्चों व महिलाओं में पोषण स्तर में सुधार को लेकर जिले में विशेष पोषण पखवाड़ा का संचालन किया जा रहा है| 16 मार्च से 31 मार्च तक संचालित होने वाले इस विशेष अभियान में बाल विकास परियोजना कार्यालय से लेकर पंचायत व आंगनबाड़ी केंद्र स्तर पोषण संबंधी विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है| इसी क्रम में गुरुवार को अररिया प्रखंड कार्यालय स्थित सीडीपीओ कार्यालय में पोषण के प्रति आम लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से कई कार्यक्रम आयोजित किये गये.

पोषण परामर्श केंद्र का का हुआ उद्घाटन
पोषण पखवाड़ा के तहत सीडीपीओ कार्यालय में स्थापित किये गये पोषण परामर्श केंद्र का उद्घाटन पिरामल स्वास्थ्य की बीटीएम रेणु कुमारी, यूनिसेफ के बीएमसी जय कुमार झा, महिला सुपरवाइजर परमजीत सारथी, बिपुल कुमारी, मधुलता, जयंती विश्वास सहित अन्य ने सामूहिक रूप से किया| एलएस परमजीत सारथी ने बताया क्षेत्र की महिलाओं को पोषण से संबंधित सही जानकारी उपलब्ध कराने के लिये पोषण परामर्श केंद्र स्थापित किया गया है| ताकि इसके माध्यम से पोषण संबंधी जरूरी सुझाव आम महिलाओं को उपलब्ध कराया जा सके| उन्होंने बताया पोषण परामर्श केंद्र के साथ-साथ पर्यवेक्षिका व आंगनबाड़ी सेविकाओं के माध्यम से संबंधित पोषक क्षेत्र में भी लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है| इस क्रम में मेहंदी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया| साथ-साथ सेविका व महिला पर्यवेक्षिकाओं ने क्षेत्र में पोषण के प्रति लोगों को जागरूक करने की शपथ भी ली |. इसके उपरांत पोषण रैली का संचालन किया गया. जो पुन: सीडीपीओ कार्यालय पहुंच कर खत्म हुआ.

एनीमिया व कुपोषण को दूर करने में पोषक तत्वों का सेवन जरूरी-

जिले भर में संचालित पोषण संबंधी गतिविधियों की जानकारी देते हुए डीपीओ आईसीडीएस सीमा रहमान ने बताया महिला व युवतियों में होने वाले एनीमिया के साथ-साथ बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिये उचित पोषक आहार का सेवन जरूरी है| उन्होंने कहा अगर महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान सही पोषण मिले तो उन्हें कई तरह की बीमारियों से बचाया जा सकता है| पिरामल स्वास्थ्य की बीटीएम रेणु कुमारी ने कहा एनीमिया की समस्या को कम करने के लिहाज से उचित पोषण का विशेष महत्व है| पोषण पखवाड़ा के अलावा आंगनबाड़ी केंद्र के माध्यम से समय-समय पर आयोजित होने वाले विभिन्न गतिविधियों में माध्यम से पोषण के प्रति लोगों को जागरूक करने का अभियान संचालित किया जाता है| इसमें हरी साग सब्जी, पालक, बथुआ, मेथी, गाजर, चना, सोयाबीन सहित अन्य प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ के सेवन की सलाह दी जाती है।