भारी मात्रा में शराब बरामद, पांच वाहन जप्त, दो गिरफ्तार!

मनेर(आनंद मोहन): जहां एक तरफ बिहार में पूर्ण शराब बंदी है तो वहीं शराब माफियाओं के लिए तू डाल – डाल मैं पात – पात का कहावत चरितार्थ साबित हो रहा है। स्थानीय लोगों की माने तो मनेर को शराब माफियाओं का गढ़ कहा जाता है। गौरतलब हो कि मनेर थाना के दियारा क्षेत्र और गंगा किनारे का इलाके में अभी भी शराब की अवैध भठियां चल रही हैं। ग्रामीण इलाकों में शराब की अवैध बिक्री भी जारी है, लोग यहां सेफ जोन समझते हैं। कारवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही की जाती रही है। जी हां यह हम नहीं बल्कि मनेर में लगातार पकड़ी जाने वाली शराब की खेप की वजह से कहा जा रहा है। उत्पाद विभाग एवं मनेर पुलिस ने संयुक्त रुप से गुप्त सूचना के आधार पर छापामारी करते हुए बलुआं सराय में एक ट्रक में भारी मात्रा में शराब बरामद किया गया। शराब की खेफ हरियाणा से पटना जा रहा था। लगभग 173 कार्टून शराब बरामद किया गया। जिसकी बाजार मूल्य लाखों रुपये बताया जा रहा है। मौके से पुलिस ने एक लग्जरी कार , एक बोलेरो, और तीन मोटरसाइकिल भी बरामद किया। इस मामले में दो शराब कारोबारी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि मनेर में भारी मात्रा में शराब गिराया जाता था और मनेर से ही पटना के विभिन्न इलाकों में फोर व्हीलर से शराब की खेप जाती थी और आज भी पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि यही हो रहा है इसी सूचना के आधार पर मनेर के शराब माफियाओं का गढ़ माने जाने वाले बलुआं में पुलिस ने छापेमारी की और ट्रक में रखा 173 कार्टून शराब के साथ ट्रक को जप्त किया। मनेर पुलिस शराब अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई में जुट गई है। वहीं दोनों कारोबारियों से पूछताछ की जा रही है। भारी मात्रा में लगातार मनेर में मिल रहे शराब की बड़ी खेप इस ओर इशारा करती है कि कहीं इसमें पुलिस और सफेदपोश की मिलीभगत तो नहीं है। मिलीभगत की बात इस बात से लगता है कि यहां हमेशा आसानी से शराब की बड़ी खेप लाई जाती है। और इसमे ना तो पुलिस कुछ कर पाती है और ना ही प्रशासन ऐसे में सवाल उठाना लाजमी है कि आखिर पुलिस क्या करती है? जो शराब की इतनी बड़ी खेप कई बार पकड़ी जा रही है और इसे पकड़ने के लिए मनेर पुलिस तो साथ में रहती है लेकिन जब शराब की खेप पकड़ी जाती है तो मनेर पुलिस के अलावे पुलिस टीम होती है और यही वजह है कि लाखों का शराब पुलिस पकड़ पाती है। फिलहाल स्थिति चाहे जो भी हो लेकिन स्थानीय लोगों का कहना है कि शराब की बिक्री अवैध तरीके एवं होम डिलीवरी के रूप में धड़ल्ले से जारी है।