बंधन बैंक कर्मियों द्वारा कोरोना काल में लोगों को किस्त देने हेतु किया जा रहा है बाध्य

अररिया(रंजीत ठाकुर): बंधन बैंक कर्मियों के द्वारा लोगों को किस्त जमा करने हेतु बाध्य किया जा रहा है।अभी बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोगों का व्यापार चौपट हो चुका है और घर खर्च चलाने के लाले पड़ रहे हैं और ऐसी परिस्थिति में वे अपने कर्ज का साप्ताहिक या मासिक क़िस्त जमा करने में असमर्थ हैं।लोग परेशान हैं और बंधन बैंककर्मी कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है. इसी कड़ीं में आज 3 मई,2021 सोमवार को नबाबगंज पंचायत के वार्ड संख्या 05 में मधु देवी के दरवाजे पर बंधन बैंक कर्मी खगेश कुमार ग्रुप लगाकर साप्ताहिक क़िस्त का कलेक्शन करने पहुंचे थे। ग्रुप में पहुंची कई महिलाओं ने अपने चेहरे पर मास्क भी नहीं लगा रखा था।ऐसे में यदि कोई कोरोना संक्रमित हुआ तो इसका जिम्मेदार कौन होगा.

संवाददाता द्वारा बंधन बैंक कर्मी खगेश कुमार से जब इस बाबत पूछा गया कि अभी कोरोना संक्रमण अपने चरम पर है और ऐसे में आप ग्रुप लगाकर साप्ताहिक क़िस्त वसूल रहे हैं,जबकि कई बैंकों ने अपने ईएमआई को फिलहाल टाल दिया है।इस पर उन्होंने कहा कि हमलोग फुलकाहा बंधन बैंक के ब्रांच मैनेजर पुरेन्दू आर्या के निर्देश पर कलेक्शन करने आये हैं।उन्होंने कहा कि हम क्या कर सकते हैं।
वहीं ग्रुप में उपस्थित रीना देवी ने बताया कि हमारे पति का कामकाज बंद है और ऐसी स्थिति में क़िस्त कहां से चुकाएं।नीलम देवी बताती हैं कि हमारा व्यापार चौपट हो गया है और ऐसे में स्थिति ठीक होने तक साप्ताहिक क़िस्त कैसे चुकाएं।वहीं मंजू देवी,नूतन देवी,दीपा देवी,अनार देवी आदि ने बताया कि हम सबका काम काज प्रभावित है।सप्ताह में दो दिन तीन चार घंटे ही दुकान खुल पाता है और बाजार में पूर्व की भांति लोग नहीं आते हैं तो इस स्थिति में घर खर्च भी बमुश्किल चल पाता है।खाने पीने के सामानों के बढ़े दाम ने वैसे ही किचन का बजट बिगाड़ रखा है,तो कैसे क़िस्त चुकाएं।
बताते चलें कि बंधन बैंक द्वारा ऋण पर करीब 18℅ व्याज लिया जा रहा है,जो सर्वाधिक है।
अगर इन बंधन बैंक कर्मियों की वजह से कोरोना संक्रमण फैला या क़िस्त के दबाब में किसी परिवार ने आत्महत्या कर ली तो इसका जिम्मेवार कौन होगा। प्रखंड विकास पदाधिकारी नरपतगंज, अनुमंडल पदाधिकारी फारबिसगंज एवं जिला पदाधिकारी अररिया को इस विषय पर स्वत संज्ञान लेते हुए अभिलंब बंधन बैंक कर्मियों द्वारा लगाए जाने वाले ग्रुप को रोका जाए और लोगों पर बेवजह दबाव डालकर क़िस्त न वसूला जाय।

क्या कहते हैं बैंक मैनेजर पुरेन्दू आर्या:-
इस बाबत बंधन बैंक मैनेजर से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि हम लोगों को वरीय पदाधिकारी के द्वारा कोई निर्देश प्राप्त नहीं है, कि ग्रुप नहीं लगाना है। ग्रुप में महिलाएं को कर्मियों के द्वारा मास्क लगाने को कहा जाता है, नहीं लगाती है हम लोग क्या कर सकते हैं।