कोरोना महामारी में अनलाॅक के बाद महावीर कैंसर संस्थान में कैंसर मरीजों की भीड़ उमड़ी

फुलवारीशरीफ(अजित यादव): कोरोना महामारी में अनलाॅक  के बाद महावीर कैंसर संस्थान में कैंसर के रोगियों की अप्रत्याषित भीड़ बढ़ गई है। पिछले 15 दिनों से लगभग 850 से 1000 मरीज प्रतिदिन अस्पताल आ रहे हैं। रेडियोथेरेपी, कीमोथेरेपी एवं सर्जरी विभाग सामान्य रूप से काम कर रहा है। प्रतिदिन 300 से अधिक मरीजों की सेकाई (रेडियेषन), 300 के लगभग मरीजों का कीमोथेरेपी एवं 11 आपरेषन थियेटर में सर्जरी होती है जो कि अपने आप में एक रिकाॅर्ड है। इसके साथ-साथ पैथोलाॅजी, रेडियोलाॅजी, न्युक्लियर मेडिसीन (पेट सी.टी. स्कैन) में सैकड़ों मरीजों की जाँच रोज होती है। अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या लगभग 400 के आसपास रहती है। अनलाॅक से पहले भी कोरोना महामारी जब चरम पर था तब भी अस्पताल एक दिन के लिए भी बंद नहीं हुआ। 500 से 600 के लगभग मरीज हमेषा चिकित्सा के लिए अस्पताल आते रहे एवं भत्र्ती मरीजों की संख्या 200 से कम कभी नहीं हुई। पटना के बड़े अस्पतालों में कोरोना अस्पताल बनने के चलते कैंसर के मरीजों के इलाज के लिए महावीर कैंसर संस्थान ही सहारा बना। जहां राज्य एवं राज्य के बाहर के मरीजों की सेवा जारी रहा। करीब 110 से अधिक चिकित्सक एवं 600 से अधिक पारामेडिकल कर्मी कोरोना के समय से ही लगातार अपनी सेवा देते आ रहे हैं। चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर एल बी सिंह ने बताया संस्थान के चिकित्सकों एवं अन्य कर्मियों की कोरोना से ग्रसित होने पर भी सभी का मनोबल ऊँचा रहा एवं महावीर कैंसर संस्थान में बिहार एवं अन्य राज्यों से आये मरीजों की सेवा में समर्पित रहे।