28 वें अन्तरराष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस ऑन पैलियेटिव पर कार्यशाल का अयोजन

फुलवारीशरीफ(अजित यादव): महावीर कैंसर संस्थान में 28 वें अन्तरराष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस ऑन पैलियेटिव केयर के अंतर्गत सोशल वर्करस् एण्ड वोलेंटीयर्स के लिये कार्यशाला का आयोजन किया गया । इस कार्यशाला में सैंकड़ों की संख्या में लोग जो कि समाज के विभिन्न वर्ग से आते हैं , उन्हें कैंसर तथा पैलियेटिव केयर के बारे में जानकारी दी गई । उन्हें कॉमयूनिकेशन स्कील्स , कैंसर के बारे में जानकारी और घर में बुजुर्ग लोगों के स्वास्थ्य हेतु जरूरतों के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई । इस कार्यशाला का संचालन डा ० ऋता रानी ने किया । इस कार्यशाला का उद्घाटन डा ० एल ० बी ० सिंह , चिकित्सा अधीक्षक , महावीर कैंसर संस्थान ने किया । डा . सिंह ने कहा कि परिवार छोटे होने के चलते घर पर लोग गम्भीर मरीजों एवं बुर्जुगों की देखभाल नहीं कर पा रहे हैं , इसलिए पैलियेटिव केयर का महत्व बढ़ गया है । डा . सिंह ने घोषणा किये की महावीर कैंसर संस्थान द्वारा आचार्य किशोर कुणाल जी के निर्देशन में 100 कमरों का हॉसपीस बनाने का काम जल्द ही शुरू होगा । कोरोना माहमारी के चलते कार्य में विलम्ब हुआ । यह बिहार का पहला हॉसपीस होगा , जहांकि लाईलाज कैंसर के गरीब मरीजों को उचित देखभाल की जा सकेगी.

उन्होंने कहा कि महावीर मन्दिर द्वारा वातानुकुलित शववाहन ” अंतिम यात्रा ” बनाया गया है । जिससे मृतकों को उनके घर मुफ्त पहुँचाया जाएगा । अभी यह सेवा पटना के लिए ही उपलब्ध है , धीरे धीरे बिहार के विभिन्न शहरों में ” अंतिम यात्रा की व्यवस्था की जाएगी । इस सम्मेलन में आयोजन समिति के सचिव डा ० उमेश भदानी ( एम्स पटना ) ने अपने भाषण में कार्यशाला के लिए महावीर कैंसर संस्थान एवं इसके संस्थापक आचार्य किशोर कुणाल को धन्यवाद दिये । इस वर्चअल सम्मेलन में भारत ही नहीं बल्कि दुनियां के कई देशों के चिकित्सक , चिकित्साकर्मी एवं सामाजिक कार्यकर्ता जुड़े हुए थे । वहीं इसमें डा ० अभीजीत डैम ( पैलियेटिव केयर कन्सल्टेंट , बोकारो ) , डा ० पीयूष गुप्ता ( लखनऊ ) , आदि कई लोग सम्मिलित हुए । इस कार्यक्रम में संस्थान की डा ० मनीषा सिंह , डा ० विनिता त्रिवेदी , डा ० मुकुल मिश्रा , डा ० उषा सिंह , डा ० रजनी सिन्हा सहित कई वरिष्ठ चिकित्सकों ने भी भाग लिया।