8 सूत्री मांग सरकार नहीं मानेगी तब तक हड़ताल खत्म नहीं होगा

अररिया(रंजीत ठाकुर): बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ, जिला इकाई अररिया के बैनर तले जिले के सभी विभाग में कार्यरत सभी कार्यपालक सहायक दिनांक 15.03.2021 से जिला समाहरणालय स्थित धरना स्थल पर एकजुट होकर बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन सोसाइटी के अपनी मांगो को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर प्रदर्शन किया। कार्यपालक सहायक के हड़ताल होने के कारण जिला मुख्यालय सहित सभी प्रखंड व अनुमंडल, विशेषकर लोक व अनुमंडल सेवा का अधिकार, पंचायत कार्यालय सहित अन्य विभाग के कार्य पूर्ण रूप बंद रहा.

जिलाध्यक्ष मनीष ठाकुर द्वारा कहा गया कि जब तक हमारी 8 सूत्री मांग सरकार नहीं मानेगी तब तक हड़ताल खत्म नहीं होगा। आगे उन्होंने बताया कि 10 वर्षो से अधिक समय से कार्य कर रहे कार्यपालक सहायकों को सरकार द्वारा बेल्ट्रॉन्न को बेचने की साजिश को जा रही रही है हमे नियमतिकरण न करके संविदा कर्मी से आउट सोर्सिंग करने का प्रयास किया जा रहा है। 5 साल तक उच्चस्तरीय अशोक चौधरी कमिटी में प्रस्तावित प्रावधानों को अनदेखा कर निजीकरण करने का प्रयास किया जा रहा है। जब तक उच्चस्तरीय कमिटी की अनुसंशाओ को शत प्रतिशत लागू नहीं किया जाता और हमारी मांगो को नहीं मानी जायेगी,तब तक हड़ताल अनवरत जारी रहेगी.

मीडिया प्रभारी आदित्य प्रियदर्शी द्वारा बताया गया कि सरकार द्वारा नवनियुक्त कार्यपालक सहायकों का जिला पदाधिकारी द्वारा लिए गए दक्षता परीक्षा के पश्चात नियुक्ति होने के वाबजूद उन्हें बेट्रॉन्न के द्वारा आयोजित दक्षता परीक्षा में पुनः देने को मजबूर किया जा रहा है। स्वास्थ विभाग में कार्यरत कार्यपालक सहायकों को हटाकर उसके स्थान पर आउट सोर्सिंग कर्मी को लगाना तथा हटाए गए कार्यपालक सहायक को बेट्रॉन्न द्वारा बनाए गए आउट सोर्सिंग पैनल के अंत में रखे जाने का सरकार का आदेश हम सभी कार्यपालक सहायक पूर्ण विरोध करते है.

जिला सचिव मनीष कश्यप द्वारा अपने आठ सूत्री मांगों के समर्थन में कहा कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होती है। बिहार के सभी कार्यालय में कार्यरत कार्यपालक सहायक द्वारा रहेगी। धरना स्थल पर अमरेन्द्र कुमार कुसुम, आलोक कुमार, राजा रजक, दीपक, सुभम, अशोक, निधि कुमारी, वर्षा रानी, नेहा, प्रियंका सहित सैकड़ों कार्यपालक सहायक मौजूद थे।