रेल किराया अधिक होने की बात रेल मंत्री से सांसद राकमृपाल यादव ने संसद में उठायी

पटना(अजित यादव): तारांकित प्रश्न के माध्यम से पाटलपिपुत्र सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री राकमृपाल यादव ने बुधवार को भारत सरकार के रेल मंत्री पियूष गोयल से रेल किराया अधिक होने समेत कई प्रश्न किए। सांसद श्री यादव ने लॉक डाउन के बाद गरीब मजदूर परिवारो की आर्थिक स्थिति को देखते हुई बढ़े रेल भाड़ा को लेकर चिंता जाहिर करते हुए रेलमंत्री से रेल भाड़ा कम करने पर विचार करने का आग्रह किया है । जवाब में उन्हें रेल मंत्री ने बताया गया कि कोविड-19 वैश्विक महामारी को रोकने के लिए भारतीय रेल ने 23 मार्च 2020 से सभी नियमित यात्री ट्रेनों को चलाना बंद कर दिया था। राज्य सरकारों की चिंताओं और सुझावों को ध्यान में रखते हुए इस समय केवल विशेष रेलगाड़ियां चलाई जा रही हैं। सेवाओं की संख्या चरणबद्ध तरीके से बढ़ाई जा रही है। 12 मार्च 2021 की स्थिति के अनुसार, भारतीय रेल ने कुल 8,474 ट्रेनों का परिचालन शुरू कर दिया है। जिसमें 2,328 मेल/एक्सप्रेस गाड़ियां और 784 यात्री गाड़ियां शामिल हैं। कोविड-19 से पहले यात्रियों के लिए दो प्रकार की गाड़ियां चलाई जा रही थीं। वैश्विक महामारी को देखते हुए लंबी दूरी वाली मेल/एक्सप्रेस गाड़ियों में अनारक्षित द्वितीय श्रेणी को आरक्षित द्वितीय श्रेणी के रूप में घोषित किया गया है। विशेष रेलगाड़ियों में भुगतान आधार पर केवल रेडी टू ईट भोजन (मील्स), प्रोपराइटरी आर्टिकल डिपो (पीएडी) आइटमों, बोतलबंद पीने के पानी और चाय/कॉफी/पेय पदार्थों का प्रावधान किया गया है.

गाड़ियों में खानपान सेवाएं पेंट्रीकारों और ट्रेन साइड वेंडिंग के जरिए मुहैया कराई जाती हैं। इसके अतिरिक्त गाड़ियों में यात्रियों को ई-खानपान सेवाओं के जरिए उनकी पसंद के भोजन का ऑर्डर देने की सुविधा है और मार्गवर्ती स्टेशनों पर स्थैतिक इकाइयों से भी खाद्य पदार्थ खरीदने की सुविधा उपलब्ध है।