52वें वार्षिकोत्सव समारोह में पहुंचे महामहिम राज्यपाल फागू चौहान, हुआ भव्य स्वागत

नालंदा(न्यूज़ क्राइम24): राजगीर रिपोट राकेश भगवान बुद्ध के शांति एवं अहिंसा के प्रतीक विश्व शान्ति स्तूप राजगीर के 52वें वार्षिकोत्सव के अवसर पर आयोजित प्रार्थना समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में महामहिम राज्यपाल,बिहार श्री फागू चौहान का आगमन राजगीर स्थित विश्व शान्ति स्तूप परिसर में हुआ।महामहिम का स्वागत जिला पदाधिकारी नालंदा श्री योगेन्द्र सिंह ने किया।इस अवसर पर पर्यटन विभाग बिहार सरकार के सचिव श्री संतोष कुमार मल भी उपस्थित रहे।समारोह की शुरुआत राष्ट्रीय गान से हुई।समारोह का संचालन राजगीर बुद्ध बिहार सोसाइटी की सचिव महाश्वेता महारथी ने किया।

सुश्री महाश्वेता ने महामहिम राज्यपाल महोदय सहित महाबोधि महाविहार के भिक्षु प्रमुख चलिंदा सहित बोध गया एवम अन्य स्थानों से आए भिक्षुकों,पर्यटन सचिव,जिला पदाधिकारी नालंदा,पुलिस अधीक्षक नालंदा तथा अन्य उपस्थित अतिथियों का स्वागत किया।उन्होंने कोविद के कारण जापान एवम अन्य दूसरे देशों से भिक्षूकों के प्रतिनिधिमंडल नहीं आ सकने की बात बताई तथा उनके द्वारा भेजे गए बधाई संदेश को पढ़ा।
माननीय मुख्य मंत्री बिहार का भी बधाई संदेश पढ़ा गया।

सुश्री महाश्वेता ने राजगीर से जुड़ी महात्मा बुद्ध के क्रिया-कलापों का जिक्र किया तथा उनके द्वारा मानवता एवम विश्व कल्याण हेतु दिए गए संदेशों के प्रतीक विश्व शान्ति स्तूप के निर्माण के इतिहास पर भी प्रकाश डाला।
स्तूप परिसर में पूजा समारोह के प्रारंभ में निप्पोंजान म्योहोजी बौद्ध संघ के फुजुई गुरुजी के अनुआयी भिक्षु के द्वारा पाठ किया गया।पूजा की अध्यक्षता राजगीर शांति स्तूप के भिक्षु प्रमुख टी0 ओकोनोमी ने किया।
पर्यटन सचिव ने भी महामहिम राज्यपाल सहित सभी भिक्षुको का अभिवादन किया तथा राजगीर सहित पूरे बिहार में बौद्ध पर्यटन केंद्र के विकास हेतु चल रही परियोजनाओं का जिक्र किया।

महामहिम राज्यपाल ने अपने संबोधन में भगवान बुद्ध के उपदेशों की प्रासंगिकता पर कहा कि ये आज भी प्रासंगिक हैं तथा विश्व शान्ति एवं मानव कल्याण से ओत-प्रोत हैं।उन्होंने कहा कि समारोह में आकर वे काफी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। पूजा समाप्ति के उपरांत महामहिम ने स्तूप की परिक्रमा की।