फाइलेरिया पीड़ितों की मदद को आगे आए सरकार

बलिया(संजय कुमार तिवारी): फाइलेरिया ग्रसित मरीजों की मदद के लिए बने “काशी बाबा सपोर्ट ग्रुप” के अध्यक्ष शिव शंकर बिंद ने जिला मलेरिया अधिकारी सुनील कुमार यादव की अध्यक्षता में सेंटर फार एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफार) संस्था के सहयोग से सोमवार को दिव्यांगजन कल्याण अधिकारी राजीव कुमार यादव को अनुरोध पत्र को सौंपा ।पत्र के माध्यम से फाइलेरिया से ग्रसित और दिव्यांग हुए लोगों के लिए सरकार से सहयोग की मांग की गई। अनुरोध पत्र के माध्यम से फाइलेरिया पीड़ितों का दर्द साझा किया गया। काशी बाबा सपोर्ट ग्रुप के अध्यक्ष शिवशंकर बिंद ने जिला दिव्यांगजन कल्याण अधिकारी राजीव कुमार यादव को बताया कि बांसडीह तहसील के ग्राम राजपुर निवासी 62 वर्षीय रामलाल पिछले 25 वर्षों से दाएं पैर में फाइलेरिया से पीड़ित हैं। इससे उनका उठना-बैठना और चलना-फिरना मुश्किल हो गया है। अगर सरकारी योजना के तहत उन्हें ट्राई साइकिल मिल जाती और कमोड वाले शौचालय की व्यवस्था हो जाती तो उनका जीवन कुछ आसान बन जाता। इसी तरह बांसडीह तहसील के वॉर्ड नम्बर 11 के निवासी बच्चन प्रसाद खरवार के बारे में बताया कि वह पिछले 18 वर्षों से पैरों की सूजन (फाइलेरिया) से ग्रसित हैं, पैर अब फटने लगा है। शौच जाने के लिए भी किसी का सहारा लेना पड़ता है।

कमोड वाले शौचालय की व्यवस्था हो जाती तो उनका जीवन कुछ आसान बन जाता। उनकी सरकार से मांग है कि उनके जीवनयापन के लिए कोई आर्थिक मदद की जाए या किसी योजना से जोड़कर उनकी कमाई की कोई व्यवस्था की जाए। दिव्यांगता प्रमाणपत्र न मिल पाने से इन लोगों में मायूसी भी है। दरअसल फाइलेरिया एक ऐसी गंभीर बीमारी है, जो व्यक्ति को पूरी तरह से या फिर आंशिक रूप से अपंग अथवा दिव्यांग बना देती है। कई बार तो यह बीमारी इस कदर अपना असर दिखाती है कि व्यक्ति के लिए दैनिक क्रियाएं और रोजमर्रा के काम करना भी मुश्किल हो जाता है और पीड़ित व्यक्ति पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर हो जाता है। ऐसे में उनको सरकारी मदद मिलना बहुत जरूरी है।