उच्च व इंटरमीडिएट विद्यालयों में सत्र आयोजित कर 15 से 18 साल के युवाओं का होगा टीकाकरण

 उच्च व इंटरमीडिएट विद्यालयों में सत्र आयोजित कर 15 से 18 साल के युवाओं का होगा टीकाकरण
Advertisement

अररिया(रंजीत ठाकुर): बिहार सहित देश के अन्य राज्यों में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने 15 से 18 साल आयु वर्ग के युवाओं को टीकाकृत किये जाने का निर्णय लिया है। आगामी 03 जनवरी से इस आयु वर्ग के किशोर-किशोरियों का टीकाकरण होना है। टीकाकरण को लेकर स्वास्थ्य विभाग बिहार सरकार द्वारा जिलाधिकारी व सिविल सर्जन को जरूरी दिशा निर्देश दिये गये हैं। प्राप्त निर्देश के आलोक में जिला स्वास्थ्य विभाग इसे लेकर जरूरी तैयारियों में जुट चुका है।

Advertisement

वर्ष 2007 व इससे पूर्व जन्म लेने वाले होंगे टीकाकरण के पात्र :

जानकारी देते हुए सिविल सर्जन डॉ एमपी गुप्ता ने बताया कि वैसे युवक व युवतियां टीकाकरण के पात्र होंगे जिनका जन्म वर्ष 2007 या इससे पूर्व हुआ हो। उक्त आयु वर्ग के टीकाकरण को लेकर पंजीकरण की प्रक्रिया 01 जनवरी 2022 से शुरू हो जायेगी। कोविन पोर्टल के माध्यम से कोई भी पात्र लाभुक टीकाकरण को लेकर अपना पंजीकरण करा सकेंगे। साथ ही 03 जनवरी से टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू होने के बाद निर्धारित सत्रों पर भी ऑन स्पॉट पंजीकरण की सुविधा का इंतजाम उपलब्ध कराने का प्रयास किया जायेगा।

उच्च व इंटरमीडिएट विद्यालयों में होगा सत्र का आयोजन :

Advertisements
Advertisement

15 से 18 साल आयु वर्ग के किशोर-किशोरियों के टीकाकरण को लेकर प्राथमिकता के आधार पर उच्च व इंटरमीडिएट विद्यालयों में सत्र का आयोजन किया जायेगा। डीआईओ डॉ मो मोईज ने सरकार से प्राप्त दिशा निर्देश का उल्लेख करते हुए बताया कि सत्र आयोजन से पूर्व शिक्षक व अभिभावकों की बैठक आयोजित की जायेगी। ताकि निर्धारित दिवस पर अधिक से अधिक छात्रों का टीकाकरण संभव हो सके। इसे लेकर प्रखंड स्तर पर भी विस्तृत माइक्रोप्लान तैयार किया जायेगा। विद्यालय स्तर पर एक शिक्षक को नोडल नामित किया जायेगा।

जागरूकता संबंधी गतिविधियों का होगा आयोजन :

किशोर-किशोरियों को टीकाकरण के लिये प्रेरित व प्रोत्साहित करने उद्देश्य से टीकारकण के दिन चित्रांकन, रंगोली सहित अन्य गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। सभी सत्रों पर मानक शीत श्रंखला में टीका के रख-रखाव का इंतजाम, पर्याप्त संख्या में सिरिंज, जैविक अपशिष्ट निस्तारण, एनाफ्लैक्सिस किट का इंतजाम सुनिश्चित कराया जाना है। डीपीएम स्वास्थ्य ने जानकारी देते हुए बताया कि सभी प्रखंडों में निर्धारित 03 जनवरी को किसी एक विद्यालय में विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। टीकाकरण से एक दिन पूर्व संबंधित क्षेत्र में इसका व्यापक प्रचार प्रसार कराया जायेगा। स्कूली बच्चों द्वारा प्रभात फेरी सहित अन्य जागरूकता संबंधी गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। अभियान की सफलता को लेकर 31 दिसंबर को जिलाधिकारी की अध्यक्षता में स्वास्थ्य व शिक्षा विभाग से संबंधित अधिकारियों के साथ समन्वय बैठक का आयोजन प्रस्तावित है। ताकि अभियान की सफलता के लिये विस्तृत रणनीति पर विचार किया जा सके।

न्यूज़ क्राइम 24 संवाददाता

Related post