राज्यस्तरीय विश्व मृदा दिवस कार्यक्रम का उद्घाटन

 राज्यस्तरीय विश्व मृदा दिवस कार्यक्रम का उद्घाटन

फुलवारीशरीफ(अजित यादव): रविवार को बामेती, पटना के सभागार में विश्व मृदा दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम किया गया। कृषि निदेशक ने इस कार्यक्रम में अपने सम्बोधन में संतुलन के महत्व को मिट्टी से जोड़ते हुए कहा कि विष्व के 2 प्रतिशत भूमि से हम 17 प्रतिशत आबादी को पोषित इस मिट्टी से कर रहे हैं। इसलिए यह आवश्यक है कि संतुलित मात्रा में उर्वरकों एवं उपादानों का उपयोग करें। साथ ही मिट्टी की उर्वरा शक्ति बरकरार रखने के लिए फसल कटाई के बाद फसल अवशेष को न जलायें। उन्होंने कहा कि कुल 66 लाख किसानों के बीच मृदा स्वास्थ्य कार्ड का वितरण किया गया है। कृषि निदेशक ने कहा कि वर्ष 2019 और 20 से मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के क्रियान्वयन में संशोधन किया गया है। ग्रीड बनाकर मिट्टी नमूना संग्रहण करने के स्थान पर किसानों की फार्म होल्डिंग के आधार पर मिट्टी नमूना संग्रहण किया गया। इस योजना के अंतर्गत वर्ष 2019 और 20 में पॉयलेट परियोजना के रूप में राज्य के सभी जिलों के प्रत्येक प्रखंड के एक ग्राम के सभी फार्म होल्डिंग का मिट्टी नमूना संग्रह कर जाँचांेपरान्त मृदा स्वास्थ्य कार्ड तैयार करते हुए मृदा स्वास्थ्य कार्ड की अनुशंसा के अनुसार चयनित गाँव में जिन फार्म होल्डिंग से नमूना लिया गया है उन्हीं होल्डिंग में प्रत्यक्षण आयोजित किये जाने एवं प्रत्येक चयनित राजस्व ग्राम में एक किसान मेला आयोजन का लक्ष्य निर्धारित किया गया। चलन्त मिट्टी जाँच प्रयोगशालाओं का उद्देश्य सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों से सीधा संपर्क कर स्थल पर ही, किसानों के खेत की मिट्टी के नमूना का परीक्षण कर मृदा स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराना है। उन्होंने बताया कि मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन योजना अंतर्गत 5 लाख की लागत पर ग्राम स्तर पर स्वरोजगार के उद्देश्य से मिट्टी जाँच प्रयोगशाला की स्थापना की जानी है, जिसमें व्यक्तिगत श्रेणी के लाभार्थियों को लागत का 75 प्रतिशत अधिकतम 3-75 लाख का अनुदान सरकार के द्वारा दिया जाता है। इस कार्यक्रम में  विजय कुमार, विशेष सचिव कृषि विभाग, शैलेन्द्र कुमार, संयुक्त सचिव कृषि, वैकेटेश नारायण सिंह, निदेशक भूमि संरक्षण,  अशोक प्रसाद, निदेशक पी0पी0एम0, आदित्य नारायण राय, संयुक्त निदेशक रसायन, मिट्टी जाँच प्रयोगशाला, सर्वजीत कुमार,संयुक्त निदेशक,विभु विद्यार्थी, जिला कृषि पदाधिकारी, पटना सहित विभागीय अन्य पदाधिकारी एवं पटना जिला के विभिन्न प्रखण्डों के 150 किसान उपस्थित थे।

News Crime 24 Desk

Related post