फुलवारी में डेढ़ माह पूर्व हुए इंजीनियर जफरुद्दीन हत्याकांड का खुलासा

 फुलवारी में डेढ़ माह पूर्व हुए इंजीनियर जफरुद्दीन हत्याकांड का खुलासा

फुलवारीशरीफ(अजीत यादव): एक पत्नी अपने पुराने बचपन के प्यार को पाने के लिए अपने इंजिनियर पति की प्रेमी के साथ मिल कर घर में रखे कुकर से सर कुचल कर मौत के घाट उतार दिया और पुलिस कानून से बचने के लिए पुलिस के सामने झुठी कहानी गढ़ डाली। हालांकि इस मामले में वारदात के बाद ही पुलिस को पत्नी पर शक था मगर ठोस सबूत का अभाव रहने के कारण पुलिस उससे गिरफ्तार नहीं कर पाई। मगर पुलिस ने अपनी जांच शुरू किया तब एक गुप्त मोबाईल ने सारा राज खोल दिया और प्रेमी वह पत्नी पुलिस गिरफ्त में आ गई। पति की हत्या के लिए पत्नी ने प्रेमी को घर के एक कमरे में पहले छुपा दिया फिर जब पति सो गया तब प्रेमी के साथ मिल सूप्त अवस्था में पति को जकड़ लिया और प्रेमी से कुकर से तब तक वार कराती रही जब तक पति ने दम नहीं तोड़ दिया। मालूम हो कि जमुई निवासी इंजिनियर जफरउद्दनी दो साल बाद ईद पर्व मनाने अपनी पत्नी और दो बेटा 10 साल 6 साल के साथ अपने ससुराल के बगल बनाये अपने बंगल पर पहुंचा था। मगर उसी रात उसकी कुकर से सर कुचल कर हत्या कर दी जाती है। वारदात के बाद मौके पर पहुंची पुलिस को पत्नी शहनाज ने बताती है कि घर चोर घुस आये थे और लूटपाट कर विरोध करने पर उसकी हत्या कर दी गई और हमें भी घायल कर दिया गया। पुलिस को पत्नी के इस बयान पर पहले ही दिन शक हो गया था क्यों कि इंजिनियर पति अपना बंगला जो बनाया था वह अपनी पत्नी और बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए किया था ताकि वह बाहर रहे ताे कोई भी बाहर से अंदर ना आ सके। पुलिस ने भी जांच में पाया कि घर बंद हो जाने के बाद अंदर से बाहर आने का कोई रास्ता नहीं है। पुलिस ने इंजिनियर की पत्नी का मोबाईल जांच को लिया पत्नी ने एप्पल का एक आईफोन पुलिस को साैंपते हुए बताया कि यह फोन मेरे पति ने यह फोन दिया था। पुलिस उस मोबाईल की जांच में पूरी तरह उलझी गई उस मोबाईल से उससे कोई साक्ष्य नहीं मिल रहा था। पुलिस लगातार इंजिरियर की पत्नी और बेटा को पूछताछ के लिए बुला रही थी। इसी बीच एक बेटा ने बताया कि मम्मी के पास एक और मोबाईल है। पुलिस ने शहनाज के पास से वह मोबाईल बरामद किया और जब जांच शुरू किया तो पाया कि उस मोबाईल में जो सिम है वह नन्हे बौली मोहल्ला के नाम से है और उस मोबाईल से शहनाज केवल नन्हें से ही बात करती है।

शहनाज से जब पुलिस ने सख्ती से पूछ ताछ किया तब शहनाज ने बताया कि नन्हें से उसका स्कूल समय से ही प्रेम प्रसंग चल रहा था वह दोनों शादी भी करना चाह रहे थे मगर घर वालाें ने जमुई में इंजिनियर जफरउद्दीन से शादी कर दिया। मेरा पति मौलाना था जो मुझे पंसद नहीं था। शादी के बाद मेरा पति खाड़ी देश नौकरी करने चला गया और मैं नन्हें जो बिजली मिस्त्री था। उसके संपर्क में पति पत्नी के तरह रहती थी। इस बात की जानकारी जब मेरे पति को लगी तो हम दोनों के बीच विवाद भी हो गया था। बात तलाक से खोला तक पहुंच गई थी मगर पति पत्नी के पक्ष वालों ने मामला संभाल लिया था। उसके बाद मेरे पति ने खाड़ी देश जाना उचित नहीं समझा और वह नोएडा में नौकरी करने लगे जहां हमें और दोनों बेटा को लेकर चले गये। नोएडा रहने के दौरान भी हम नन्हें से मेरा संपर्क बराबर रहता था। पति ने यह सोचा था कि लम्बे समय तक फुलवारी शरीफ से दूर रहने पर मेरा मेरे प्रेमी से संपर्क खत्म हो जायेगा मगर एैसा नहीं हुआ। दो साल के बाद मेरे पति ने ईद का पर्व मायका के बगल में बने बंगल पर मनाने का प्लान बना हम सभी साथ आये। हमने इस बात की जानकारी नन्हें को दे कर योजना बनाई की किसी प्रकार इसको रास्ता से हटा कर हम दोनों को एक हो जाना है। पर्व के एक दिन पूर्व जब हम लोग यहां आये तो हम दोनों ने घर की साफ सफाई कर पति को इस बात के लिए राजी किया कि वह नन्हें को रात में घर दावत पर बुलाये वह तैयार हो गये और रात के 9 बजे बड़े बेटा को साथ लेकर बाहर सामान लाने के लिए निकले तब हमने नन्हें को बुला कर घर के एक कमरे में बंद कर दिया और उसके ना आने का बहना बना कर खाना खा सोने चले गये। पति जब गहरी नींद में आ गये तब हमने नन्हें को कमरे से बाहर निकाला। प्रेमी के साथ मिल कर पति के सर पर कुकर से वार जोर से कर दिया वह बेहोश हो कर जमीन पर गिर गया तब हमने उससे जकड़ लिया और नन्हें तब तक सर पर कुकर से वार करता रहा जब तक उसने दम नहीं तोड़ दिया। हम दोनों जब अश्वास्त हो गये कि जफरउद्दीन मर गया तब नन्हें के शरीर पर लगा खून बाथरूम में साफ करा सुबह उससे घर से बाहन निकाल दिया।

इंजीनियर की पत्नी का अपने प्रेमी से छठी क्लास से थी दोस्ती-

फुलवारी शरीफ एएसपी फुलवारी शरीफ मनीष कुमार ने इंजिनियर हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि इस हत्या कांड में कई चौकाने वाली जानकारी पत्नी शहनाज के द्वारा दी गई है।

शहनाज ने पुलिस को बताया कि क्लास 6 में ही नन्हें उसे उसका प्रेम प्रसंग शुरू हो गया था। जिस कारण स्कूल वालों ने दोनों का नाम काट दिया था तब शहनाज ने घर रह कर पढ़ाई किया और नन्हें ने पढ़ाई नहीं की,शहनाज की जब शादी लगी तब उसने अपने होने वाले पति जफरउद्​दीन को फोन कर कहा था कि वह किसी और से प्रेम करती है और हमसे शादी ना करें मगर जफरउद्​दीन ने बाेला कि तूम बहुत सुंदर हो हम तुम से ही शादी करेंगे,शहनाज ने पुलिस को बताया कि वह साल में एक माह जफरउद्​दीन की पत्नी और 11 माह नन्हें की पत्नी बन कर रहती थी,शहनाज अपने ने बताया कि एक बेटा जफरउद्​दीन एवं एक बेटा नन्हें का है,वह अपने दोनों बेटा को कहती थी कि आप के दो पापा हैं और बच्चे दाेनों को पापा कहते थे। एएसपी मनीष कुमार ने बताया कि शहनाज का पति जफरउद्​दीन जब खाड़ी देश छोड़ कर अपने देश वापस रहने का फैसला किया तब यह बात शहनाज और नन्हें को हजम नहीं हो रही थी और इसी कारण दोनों ने योजना बना कर हत्या की वारदात को अंजाम दे डाला।

हत्या के दौरान नन्हें और शहनाज भी घायल हुई थी। पति को उम्मीद थी कि पत्नी उसका साथ देगी मगर ऐसा नहीं हुआ और उसने प्रेमी का साथ देकर पति की हत्या कर दिया और प्रेमी को भगा कर शव के साथ रही। इस मामले में दोनों बच्चों का भी बयान पुलिस ने दर्ज किया और बच्चों से सारी जानकारी पुलिस को देते हुए बताया कि मम्मी कहती थी कि नन्हें को भी पापा कहाे। वारदात के दिन हत्या के दौरान हो रहे हंगामा के कारण दोनों बेटे जग गये थे मगर वह मां के दबाव में कुछ बोल नहीं पा रहे थे। एएसपी ने बताया कि जफरउद्​दीन ने फुलवारी शरीफ में करीब 5 करोड़ की संपति खरीद रखी थी। संवाददाता सम्मेलन में एएसपी मनीष,थानाध्क्ष इकरार अहमद,केस के अनुसंधान कर्ता राजेश कुमार,अनु प्रिया मौजूद थी।

न्यूज़ क्राइम 24 संवाददाता

Related post