‘निधि समर्पण कार्यक्रम’ की हुई शुरुआत, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राम मंदिर को सौंपा पहला चंदा

नई दिल्ली: अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर के लिए ‘निधि समर्पण अभियान’ की शुरुआत शुक्रवार से हो गई है. इस अभियान की शुरुआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने खुद पांच लाख 100 रुपये का दान देकर की. उनसे चंदा मांगने के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट, विश्व हिंदू परिषद और स्वसंसेवक संघ का एक प्रतिनिधिमंडल पहुंचा था. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी विश्व हिंदू परिषद (VHP) को राम मंदिर निर्माण के लिए 1 लाख रुपये की राशि दान में दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, ‘भगवान श्रीराम मंदिर के निर्माण में एक ईंट हमारे परिवार की भी लगेगी। यह राम मंदिर नहीं राष्ट्र मंदिर है। श्री राम जी भारत की पहचान हैं। यह सौभाग्य है कि मंदिर का निर्माण जनसहयोग से प्रारंभ हो रहा है और उसमें गिलहरी की तरह हमें अपना योगदान देने का सौभाग्य मिला.

दरअसल, आज से अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर के लिए ‘निधि समर्पण अभियान’ की शुरुआत की गई और इसमें सबसे पहले राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की ओर से समर्पण निधि दी गई। आज श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट, विश्व हिंदू परिषद व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति से मुलाकात की।