दलाली करने वालों में एक रैकेट में कई बड़े नाम आ सकते सामने..!

रांची: रिम्स के ट्रामा सेंटर में कोरोना पीड़ित मरीजों को बेड दिलाने के नाम पर दलाली करने वालों में एक खुद संक्रमित निकला। गिरफ्तार आरोपितों में जोड़ा तालाब निवासी रियाज आलम की कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उसे जेल भेजने के बजाए खेलगांव कैंपस में बने कैंप जेल में रखा गया है। हालांकि तेतर टोली के चाउमिन विक्रेता टुकटुक कुमार साहु और भरमटोली निवासी पवन कुमार सिंह जेल नहीं भेजे जा सके। दोनों को गुरुवार को जेल भेजा जाएगा। रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में बेड दिलाने के नाम पर मरीज के परिजनों से 30 से 50 हजार रुपये की अवैध वसूली के मामले में बरियातू थाने की पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार किया है। इन तीनों के जरिए इस रैकेट में जुड़े और लोगों के नाम सामने आने की संभावना है। पुलिस का मानना है कि तीनों रिम्स प्रबंधन से जुड़े लोगों के साथ साठगांठ कर यह खेल कर रहे थे। गहनता से इसकी छानबीन चल रही है। अन्य लोगों के पकड़े जाने की आशंका है। पुलिस उनके खिलाफ साक्ष्य जुटा रही है। ऑडियो वायरल होने के बाद सीएम के आदेश पर हुई थी जांच :
रिम्स के ट्रामा सेंट्रर में बेड दिलाने के नाम पर मोटी रकम की वसूली का ऑडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था। यह वायरल होने के बाद सीएम के आदेश पर जांच शुरू की गई थी। इसके बाद मजिस्ट्रेट राकेश कुमार और थानेदार सपन महथा के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया। गठित टीम ने ऑडियो की जांच की। पाया गया कि आरोपित रियाज एक व्यक्ति को जनरल बेड दिलाने के नाम पर 30 और ऑक्सीजन युक्त बेड के एवज में 50 हजार रुपये की डिमांड कर रहा है। ऑडियो सही पाए जाने के बाद पुलिस हरकत में आई और मंगलवार को रियाज को गिरफ्तार किया था।

मिले पैसे आपस में बराबर बांट लेते थे आरोपित

पूछताछ में गिरफ्तार रियाज ने पुलिस को मामले की पूरी जानकारी दी। उसने बताया कि रिम्स के वार्ड ब्वाय पवन के साथ मिलकर वे लोग मरीजों को बेड उपलब्ध कराने के नाम पर उनसे मोटी रकम वसूलते हैं। उसने खुलासा किया कि वह और टुटु मरीज के परिजन को सेट करता था। उससे रकम लेता था। इसकी जानकारी पवन को देता था। पैसे लेने के बाद पवन रिम्स में मरीज को भर्ती कराकर बेड उपलब्ध कराता था। मरीज के परिजन से मिली राशि तीनों आपस में बांट लेते थे। पुलिस ने रियाज की निशानदेही पर टुटु और पवन को गिरफ्तार किया गया।