बिहार

पिली चादर में लपेटे भवरों को अपना रस से लुभा रहा है फूल

गया(अरुणजय प्रजापति): डूमरिया प्रखण्ड क्षेत्र में सरसों की खेती अपनी पिली चादर ओढ़ जगमगा रहा है। दुशरी तरफ पिली चादर से जहां खेत को सुंदरता बढ़ा रहा है तो वहीं अपनी पिली चादर से ढंक रहा है खेत।

एक तरफ वर्षा नहीं होने के कारण धान की खेती में चन्द्र ग्रहण लगा है तो वहीं किसानों ने सरसों की खेती कर खेतों को जगमगा रहा है। वहीं भंवरे व मधु मखियां भी पीछे कहां सरसों के फूल को मनमोहक देख उन पर अपना रस पीकर सराबोर हो रही है।

खुशनुमा व आकर्षक सरसों के फूल हर किसी आने जाने वालों को मनमोह ले रहा है। किसानों का भी सरसों का फसल देख मन प्रफुलित है। और अत्यधिक फसल लेने को खुश नजर आ रहे हैं। बता दें कि 2022 में वर्षा नहीं होने के कारण धान का फसल नहीं हुआ जिससे चावल की समस्या क्षेत्र में उतपन्न है।

Advertisements
Ad 2

वहीं जिला और प्रखण्ड क्षेत्र में सुखाड़ की सरकार द्वारा घोषणा भी की जा चुकी है। सुखाड़ की स्थिति और सरसों का तेल के दामों में अत्यधिक कीमतों की बृद्धि को देखते हुए किसानों ने अपने अपने खेतों में सरसों व राय की खेती की है।

जहां सरसों का पिली फूल खिलने से खेत खुशनुमा व है। जिस तरह क्षेत्र में सरसों की खेती अत्यधिक मात्रा में की गयी है वैसे में सरसों के तेल की कीमतों में गिरावट होना लाजमी है। मधुमखियां भीं गुनगुना कर गा रही है बहारों फूल खिलाओं तेरा तेरा महबूब आया है।फूलों ने भी अपने आशिकी मधुमखियों को अपने फूलों के चादर में समेटे हुश्न का जलवा बिखेर रही है।

Related posts

शिवरात्रि एवं शब ए बारात को लेकर शांति समिति कि बैठक

अखिल भारतीय यादव महासंघ के चिकित्सा प्रकोष्ठ के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष बनेगौरव यादव

तेजस्वी के ‘जन विश्वास यात्रा’ का दूसरा चरण कल से, 1400 किलोमीटर का रोड-शो

error: