बिहार

राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी गुणवत्ता मूल्यांकन डॉ बी के मिश्रा ने जिले के विभिन्न अस्पतालों का किया निरक्षण

पूर्णिया, (न्यूज़ क्राइम 24) राज्य स्वास्थ्य समिति, बिहार के गुणवत्ता एवं मूल्यांकन राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ बी के मिश्रा द्वारा मंगलवार को पूर्णिया जिले के विभिन्न अस्पतालों का निरक्षण किया गया। इस दौरान उन्होंने अस्पताल में मरीजों के लिए उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी लेने के साथ साथ मरीजों को मिल रही व्यवस्था की जानकारी ली। राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ बी के मिश्रा द्वारा सबसे पहले पूर्णिया पूर्व प्रखंड के अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रानीपतरा का निरक्षण किया गया। वहां उन्होंने ओपीडी में मरीजों की हो रही जांच के साथ मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल में उपलब्ध सुविधाओं का निरक्षण किया।

इसके बाद राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पूर्णिया कोर्ट और शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र चूनापुर का भी निरक्षण किया गया। निरक्षण के दौरान उन्होंने उपस्थित चिकित्सकों से अस्पताल में औसतन उपलब्ध मरीजों की जानकारी लेते हुए विभिन्न बीमारियों से ग्रसित मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल में उपलब्ध व्यवस्था की जानकारी ली। निरक्षण में राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ बी के मिश्रा के साथ डब्लूएचओ के राज्य अधिकारी भी उपस्थित रहे जिनके द्वारा अस्पताल में उपलब्ध सुविधा का मूल्यांकन किया गया।

इस दौरान जिला स्वास्थ्य विभाग से जिला संचारी रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ कृष्ण मोहन दास, आरपीएम केशर इकबाल, यूनिसेफ जिला सलाहकार शिवशेखर आनंद, सहयोगी सलाहकार अर्पिता हलदार, डीपीसी डॉ सुधांशु शेखर, डीपीएस राजेश शर्मा, डीसीक्यूए डॉ अनिल कुमार शर्मा, पूर्णिया पूर्व प्रखंड के बीएचएम विभव कुमार, रानीपतरा अस्पताल में चिकित्सक डॉ रवि रौशन और डॉ शरद सान्याल तथा शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ प्रतिभा कुमारी, गांधी फेलो संकेत दाहाट सहित संबंधित अस्पताल के स्वास्थ्य अधिकारी और कर्मी उपस्थित रहे।

अस्पताल में मरीजों के लिए उपलब्ध सुविधाओं की ली जानकारी :

राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ बी के मिश्रा ने अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रानीपतरा में मरीजों के लिए उपलब्ध विभिन्न सुविधाओं की जानकारी ली। उन्होंने रानीपतरा अस्पताल में ओपीडी के साथ साथ जांच केंद्र, गैर संचारी रोग निरक्षण केंद्र, गर्भवती महिलाओं के लिए उपलब्ध सुविधा के साथ साथ मरीजों के स्क्रीनिंग के लिए संचालित लैब रूम का भी निरक्षण किया। इसके बाद उन्होंने गर्भवती महिलाओं के लिए अस्पताल में उपलब्ध प्रसव कक्ष में मरीजों की व्यवस्था के लिए उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी लेने के साथ ही चिकित्सकों द्वारा मरीजों के लिए किए जा रहे इलाज की जानकारी ली। अस्पताल में इलाज के बाद मरीजों को मिलने वाले दवाइयों के उपस्थिति का मूल्यांकन करते हुए रानीपतरा अस्पताल से औसतन प्रति माह इलाज कराने वाले मरीजों की जानकारी ली।

शहरी स्वास्थ्य केन्द्र पूर्णिया कोर्ट में आभा आईडी बनाकर एसपीओ ने कराई अपनी जांच :

Advertisements
Ad 2

राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी (एसपीओ) डॉ बी के मिश्रा द्वारा शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पूर्णिया कोर्ट का भी निरक्षण किया गया। इस दौरान उन्होंने अस्पताल में आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट (आभा) कार्ड से मरीजों को मिलने वाले सुविधाओं की जानकारी ली। इसके लिए उन्होंने आभा कार्ड बनाने के लिए अपना मोबाइल से आईडी स्कैन किया। स्कैन के बाद उन्होंने अपनी जानकारी एप्प में दर्ज करते हुए अपना पर्चा बनवाया। उसके बाद उन्होंने ओपीडी में उपस्थित चिकित्सक से अपनी बीमारी की जांच करवाई। अस्पताल में चिकित्सकों द्वारा राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी की लंबाई और वजन लेने के बाद उनका ब्लड प्रेशर जांच किया गया। उसके बाद उन्हें होने वाले बीमारियों की जानकारी लेते हुए अबतक उसके लिए किए गए जांच की जानकारी ली। एसपीओ डॉ मिश्रा ने बहुत दिन पहले अपने जांच करवाने और इसके लिए उपयोग करने वाले दवाओं की जानकारी दी।

इसके आधार पर चिकित्सकों द्वारा एसपीओ को वर्तमान स्वास्थ्य के अनुसार दवाई देते हुए इसके उपयोग करने की जानकारी दी गई। स्वास्थ्य चिकित्सक ने बताया कि आभा कार्ड बनाने से संबंधित मरीजों की जानकारी हमेशा आभा कार्ड में दर्ज रहता है। अगले बार किसी भी अस्पताल में आभा कार्ड से जांच करवाने पर पिछले अस्पताल में उन्हें दिए गए सुविधा की जानकारी उपलब्ध रहेगी जिसके आधार पर अगला चिकित्सक उनका इलाज आगे बढ़ा सकते हैं। राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ बी के मिश्रा को बताया गया कि रानीपतरा और पूर्णिया कोर्ट अस्पताल को राज्य स्तरीय एनक्यूएएस प्रमाणपत्र मिल गया है। संबंधित अस्पताल में अब नेशनल स्तरीय एनक्यूएएस प्रमाणपत्र की तैयारी की जा रही है जिसके लिए अगले महीने नेशनल टीम द्वारा निरक्षण निर्धारित किया गया है।

सभी व्यवस्था उत्तम, लगातार जारी रखें मरीजों को बेहतर चिकित्सा व्यवस्था :

राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ बी के मिश्रा ने कहा कि सभी अस्पतालों में मरीजों के इलाज के लिए सभी व्यवस्था बेहतर है। इससे स्थानीय मरीजों को इलाज के लिए ज्यादा दूर नहीं जाना होता है जो अच्छा है। यहां के सभी अस्पतालों में मरीजों के लिए अच्छा व्यवस्था है और सभी अस्पताल में मरीजों की उपस्थिति भी औसत से अधिक है। राज्य स्वास्थ्य विभाग को इस बात पर गौरव है कि पूर्णिया के सामुदायिक स्तर पर संचालित अस्पताल से मरीजों को सभी सुविधा उपलब्ध हो रही है। इसे लगातार जारी रखना चाहिए ताकि मरीजों को हमेशा आसानी से चिकित्सकीय सहायता उपलब्ध हो सके।

निरक्षण के बाद राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ बी के मिश्रा द्वारा सभी प्रखंड स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ जिला स्वास्थ्य विभाग में बैठक आयोजित किया गया। उस दौरान उन्होंने सभी प्रखंड के हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों को एनक्यूएएस प्रमाणपत्र के लिए उपयुक्त मानक के अनुसार तैयारी करते हुए संबंधित अस्पताल को राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन मानक (एनक्यूएएस) प्रमाणपत्र के लिए तैयार करने का निर्देश दिया गया। इसके लिए हर प्रखंड से हर महीने में कम से कम एक हेल्थ एंड वेलनेस सेंटरों को एनक्यूएएस के लिए तैयार करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया और संबंधित अधिकारियों को इसमें विशेष ध्यान देते हुए सभी अस्पतालों को राष्ट्रीय गुणवत्ता आश्वासन मानक के अनुसार तैयार करने का निर्देश दिया गया।

Related posts

बेगूसराय में एक ही परिवार के चार बच्चों की डुबने से हुई मौत!

कार्य में लापरवाही बरतने वाले पुलिस कर्मियों पर होगी सख्त कार्रवाई : मुख्यमंत्री

उपविकास आयुक्त के अध्यक्षता में कार्यों की समीक्षा बैठक आहूत की गई