युवकों के आत्महत्या की धमकी पर कोर्ट में तैनात रही पुलिस व डॉक्टरों की टीम!

जमुई(मो० अंजुम आलम): शुक्रवार को एक चौंकाने वाला मामला जमुई में देखने को मिला यहां एक ओर पूरा पुलिस महकमा सीएम नीतीश कुमार के आगमन को लेकर पक्षी महोत्सव नागी- नकटी डैम में मोर्चा संभाले हुई थी तो दूसरी ओर सीओ दीपक कुमार,नगर थानाध्यक्ष चंदन कुमार के अलावा अन्य पदाधिकारी व पुलिस जवान सहित डॉक्टरों की टीम कोर्ट परिसर में डटी हुई थी। हुआ यूं था कि राहुल कुमार नामक युवक सहित अन्य 5 युवकों द्वारा जमुई कोर्ट परिसर में आमरण अनशन करने व आत्म हत्या करने की धमकी दी गई थी। इस दौरान अधिकारी व डॉक्टरों की टीम द्वारा घूम घूम कर पूरे कोर्ट परिसर की तलाशी ली गई।लेकिन आत्महत्या की धमकी देने वाले युवकों का कुछ पता नहीं चल सका। युवकों के इंतेज़ार में पुलिस तकरीबन 4 घंटे तक कोर्ट परिसर में छानबीन करती रही। गौरतलब हो कि अनुमंडल पदाधिकारी प्रतिभा रानी को कुछ दिन पहले एक आवेदन दिया गया था। जिसमें 16 जनवरी शनिवार के दिन 11 बजे कोर्ट परिसर में राहुल कुमार सहित अन्य 5 युवकों द्वारा आमरण अनशन करने और आत्महत्या करने की धमकी दी गई थी। उसके बाद हरकत में आई पुलिस प्रशासन द्वारा सीओ और थानाध्यक्ष के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई। इसके अलावा डॉक्टरों की भी टीम गठित कर कोर्ट परिसर के चप्पे चप्पे पर तैनात की गई.

हालांकि युवकों के नहीं मिलने के बाद सभी पुलिस पदाधिकारी व डॉक्टरों की टीम वापस लौट गई। फिलहाल युवकों द्वारा आत्महत्या की धमकी देने के कारणों का पता नहीं चल सका है। लेकिन ऐसा बताया जा रहा है कि कुछ दिन पूर्व कोर्ट में किसी पद को लेकर बहाली निकली थी। नौकरी के लालच में उक्त युवक ठगी का शिकार हो गया था। इसकी शिकायत युवकों द्वारा पदाधिकारियों के समक्ष भी की गई थी लेकिन इसका कोई निर्णय नहीं निकलने की वजह से उनलोगों द्वारा आमरण अनशन करने की बात कही गई थी फिर उसके बाद आत्महत्या करने की धमकी दी गई थी। फिलहाल जिला प्रशासन मामले की जांच में जुटी हुई है।