जिला महिला चिकित्सालय से जिलाधिकारी द्वारा हुआ पोलियो अभियान का उद्घाटन

बलिया(संजय कुमार तिवारी): जिलाधिकारी श्री हरी प्रताप शाही, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ० राजेन्द्र प्रसाद एवं मुख्य चिकित्सा अधीछीका डॉ० सुमीता सिन्हा द्वारा जिला महिला चिकित्सालय के प्रांगण में रविवार को राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान का शुभारम्भ किया गया। इस अवसर पर जन्म से पाँच वर्ष तक के बच्चों को पोलियो ड्राप “दो बूंद ज़िन्दगी की” पिलाकर अभियान की शुरुआत की गयी। इस मौके पर सीएमओ ने कहा अब देश में पोलियो का उन्मूलन हो चुका है लेकिन फिर से पोलियो वायरस पनप न सके इसलिए सुरक्षा के दृष्टिकोण से बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाई जा रही है. उन्होंने बच्चों के अभिभावकों से आह्वान किया अपने-अपने बच्चों को पोलियो बचाव की खुराक अवश्य पिलायें ताकि भारत में पोलियों को समूल रूप से नष्ट किया जा सके. उद्घाटन समारोह में जिला प्रतिरक्षण अधिकारी एवं एसीएमओ डॉ एके मिश्रा ने बताया जिले में 4.95 लाख बच्चों को पोलियो ड्राप पिलाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। पूरे जिले में 1,601 बूथ बनाए गए हैं। इसके साथ ही अभियान के 835 टीमें हैं. जो घर -घर जाकर बच्चों को दवा पिलाने का काम करेंगे.

उन्होंने बताया भारत में पोलियो का अंतिम मामला 13 जनवरी 2011 को पश्चिम बंगाल के हुगली में रिपोर्ट हुआ था। विश्व स्वास्थ संगठन ने भारत को 27 मार्च 2014 को पोलियो मुक्त देश घोषित कर दिया है। हालांकि पड़ोसी देश जैसे पाकिस्तान अफगानिस्तान में फैलने का खतरा बना हुआ है। जिस वजह से देश में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत पल्स पोलियो अभियान के दौरान पोलियो की दवा पिलाई जा रही है.

इस मौके पर कर्मचारी संघ के अध्यक्ष सत्या सिंह, नवजात शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ० सिद्धार्थ मणि दुबे, अपर शोधधिकारी रामहित, डब्ल्यू०एच०ओ० प्रतिनिधी, यूनिसेफ़ प्रतिनिधि नसीम खान, आयुष्मान भारत कार्यक्रम के जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ० चंद्रशेखर सिंह सहित अन्य चिकित्सक एवं चिकित्साधिकारी उपस्थित थे।