सीएचसी अधीक्षक ने पुलिस से लगाई सुरक्षा की गुहार

बलिया(संजय कुमार तिवारी): चिकित्साधिकारी के आदेश पर पूर्व में संविदा पर तैनात एक स्टाफ नर्स की आख्या देना सीएचसी सीयर के अधीक्षक को उस समय भारी पड़ा जब उक्त स्टाफ नर्स द्वारा फोन पर उन्हें जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए भला बुरा कहा गया तथा सीएमओ व सीएचसी अधीक्षक को बर्बाद करने के साथ ही उन्हें जान से मारने की भी धमकी दी गई। अधीक्षक द्वारा इस संबंध में रविवार को उभांव थाने में तहरीर देकर अपने जान माल की सुरक्षा हेतु गुहार लगाई गई है.

सीएचसी सीयर के अधीक्षक डा० तनवीर आजम ने उभांव पुलिस को दिए गए तहरीर में यह आरोप लगाया है कि पूर्व में संविदा पर तैनात स्टाफ नर्स राधा कृष्ण राय पुत्री स्व० विजय बहादुर ग्राम सुर कुआं मेंहदुपार पोस्ट कुरंगा बिशुनपुरा थाना दोहरीघाट जनपद मऊ जो पूर्व में सीएचसी सीयर में तैनात थी। उक्त नर्स को 17 फरवरी 18 को तत्कालीन सीएओ द्वारा अधिसंख्य होने के कारण कार्य न लेने व अग्रिम आदेश तक उपस्थिति पंजिका पर उपस्थिति दर्ज न कराने व कार्य न लेने का आदेश दिया गया था। उक्त के अनुपालन में तत्कालीन सीएचसी सीयर अधीक्षक द्वारा उक्त से अपने पत्र दिनांक 12 जुलाई 2018 द्वारा उपस्थिति दर्ज न करने एवं कार्य न करने का आदेश प्राप्त कराया गया.

बाद में स्टाफ नर्स द्वारा 26 नवम्बर 2019 को मुख्यमंत्री जनता दरबार में इस सम्बन्ध में एक प्रत्यावेदन दिया गया जिस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी बलिया से आख्या की मांग की गई। उक्त आदेश के अनुपालन में मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा अधीक्षक सीएचसी सीयर से सम्पूर्ण आख्या मांगा गया। आदेश के अनुपालन में अधीक्षक सीएचसी सीयर द्वारा 19 जनवरी 21 को सम्पूर्ण आख्या मुख्य चिकित्साधिकारी को प्रेषित कर दिया गया। जब मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा स्टाफ नर्स को इस बावत जानकारी दी गई। आरोप है कि अधीक्षक द्वारा सीएमओ को दी गई सम्पूर्ण आख्या से भड़की स्टाफ नर्स द्वारा 22 जनवरी को देर रात अपने मोबाइल नम्बर 9151756846 से सीएचसी सीयर को फोन कर भला बुरा कहते हुए उन्हे नौकरी से हटाने की धमकी दी गई। यही नही उक्त स्टाफ नर्स द्वारा 24 जनवरी को सीएचसी अधीक्षक को मारने पीटने की बात कहते हुए जान से मरवाने तक की धमकी दी गई।