बिहार

परिवार नियोजन के स्थायी साधनों में बेहतर है पुरुष नसबंदी : सिविल सर्जन

पूर्णिया, न्यूज क्राइम 24। 05 दिसंबर। परिवार नियोजन के विभिन्न साधनों के प्रति लोगों को जागरूक करने और इसमें विशेष रूप से पुरुषों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा हर साल पुरुष नसबंदी पखवाड़े का आयोजन किया जाता है। इस दौरान पुरुषों को परिवार नियोजन के लिए जागरूक किया जाता है। जिससे कि लोग समय पर इसका लाभ ले अपने परिवार को संतुलित और स्वस्थ रख सकें। इसके लिए जिले में 27 नवंबर से 16 दिसंबर तक पुरुष नसबंदी पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। दो चरणों में आयोजित पखवाड़े का पहला चरण 27 नवंबर से 03 दिसंबर तक दंपत्ति संपर्क पखवाड़े के रूप में चलाया गया है। इस दौरान आशा कर्मियों द्वारा अपने क्षेत्र के सभी योग्य दंपत्तियों को परिवार नियोजन के विभिन्न साधनों की जानकारी देते हुए उन्हें सुविधाओं का लाभ लेने के लिए जागरूक किया गया है। 04 से 16 दिसंबर तक दंपत्ति सेवा पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। इसके तहत इच्छुक दंपत्तियों को परिवार नियोजन सुविधाओं का लाभ दिया जा रहा है।

परिवार नियोजन के स्थायी साधनों में बेहतर है पुरुष नसबंदी : सिविल सर्जन

सिविल सर्जन डॉ अभय प्रकाश चौधरी ने बताया कि परिवार नियोजन के लिए स्थायी और अस्थायी बहुत से साधन हैं। स्थायी साधनों में महिला बंध्याकरण और पुरुष नसबंदी है । जिसमें पुरुष नसबंदी आसान और सुलभ है। पुरुष नसबंदी में किसी तरह का चीरा, टांका या पट्टी नहीं की जाती है। पुरुष नसबंदी में दक्ष शल्य चिकित्सक द्वारा हल्का सुराख करके ऑपरेशन किया जाता है। पुरुष नसबंदी बिल्कुल सुरक्षितहै। ऐसा करने से पुरुषों में कोई मर्दाना कमजोरी नहीं होती है। नसबंदी कराने के दो घंटे बाद पुरुष घर जा सकते हैं। घर में दो दिनों के बाद से संबंधित पुरुष सामान्य रूप से कार्य कर सकते हैं। वह सात दिनों के बाद से नियमित दैनिक कार्य भी कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि पुरुष नसबंदी सुविधा जिले के मेडिकल कॉलेज, अस्पताल के साथ सभी अनुमंडलीय अस्पताल, रेफरल अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में निःशुल्क उपलब्ध है।

Advertisements
Ad 2

दंपति संपर्क पखवाड़े के तहत योग्य दम्पतियों को किया गया परिवार नियोजन के लिए जागरूक

सिविल सर्जन डॉ चौधरी ने बताया कि परिवार नियोजन के लिए जिले में आशा कर्मियों द्वारा सभी योग्य दंपतियों को जागरूक किया गया है। समाज में जिन दंपत्तियों के दो बच्चे हो गए हैं और उन्होंने अपना परिवार पूरा कर लिया है, उन्हें परिवार नियोजन सुविधा का लाभ लेने की जानकारी दी गई है। ऐसे में जो भी दंपति परिवार नियोजन के लिए तैयार हैं उन्हें 04 से 16 दिसंबर तक विशेष कैम्प आयोजित कर सुविधाओं का लाभ दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पखवाड़े के दौरान सभी दंपतियों को परिवार नियोजन के सभी स्थायी व अस्थायी सुविधा का लाभ दिया जा रहा है। इसमें पुरुष नसबंदी के साथ महिला बंध्याकरण भी शामिल हैं।

सरकारी अस्पतालों में इसका लाभ उठाने पर लोगों को आर्थिक लाभ भी दिया जाता है। नसबंदी के लिए पुरुषों को 3000 रुपए जबकि महिला बंध्याकरण के लिए लाभार्थी महिला को 2000 रुपए प्रोत्साहन राशि के रूप में दी जाती है। इसके साथ ही पखवाड़े में सभी नए दंपतियों को महिलाओं और होने वाले बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए परिवार नियोजन के अस्थायी सुविधा की जानकारी दी जा रही है। परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों में कंडोम, आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली, छाया (साप्ताहिक गर्भनिरोधक गोली), अंतरा (गर्भनिरोधक सुई), माला-एन, कॉपर टी आदि की जानकारी दी जा रही है। इसका उपयोग कर लोग बच्चों में नियमित अंतराल रख सकते हैं। जिससे माँ और बच्चे दोनों बिल्कुल स्वस्थ्य एवं तंदुरुस्त रहेंगे।

Related posts

शिवरात्रि एवं शब ए बारात को लेकर शांति समिति कि बैठक

अखिल भारतीय यादव महासंघ के चिकित्सा प्रकोष्ठ के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष बनेगौरव यादव

तेजस्वी के ‘जन विश्वास यात्रा’ का दूसरा चरण कल से, 1400 किलोमीटर का रोड-शो

error: