बिहार

घर के बाहर खड़ी ऑल्टो कार में खेल रहे दो मासूम बच्चों की आग में जलकर मौत!

फुलवारी शरीफ, अजीत। पटना के गौरीचक थाना क्षेत्र के सोहगी रामपुर टांड़ पर इलाके में एक घर के बाहर खड़ी ऑल्टो कार में दो छोटे-छोटे मासूम बच्चे खेल रहे थे ,तभी अचानक कार का दरवाजा लॉक हो गया और कार में आग लग गई . घटना में कार में अंदर ही दोनों बच्चों की जलकर मौत हो गई .घटना की जानकारी मिलते ही परिवार वालों में कोहराम मच गया. आसपास के लोग परिजन की मदद से किसी तरह कार का शीशा तोड़कर जब तक बच्चों को बाहर निकालते दोनों बुरी तरह जल गए थे. इस लोमहर्षक घटना को देख आसपास के लोगों का दिल दहल उठा. घटना के बाद इलाके में अपना तफरी मच गया. लोगों ने इसकी सूचना 112 डायल पुलिस को दी. मौके पर पहुंची 112 डायल पुलिस और पूछताछ के बाद वहां से लौट गई.

इधर मृतक के परिवार में रोना पीटना मचा रहा. सूचना मिलते ही वहां सैकड़ो लोगों की भीड़ जमा हो गई .लोगों ने बताया कि संजीव यादव जहानाबाद के रहने वाले हैं जो पिछले चार पांच माह पहले गौरी चक में घर बनाकर गृह प्रवेश किए थे. संजीव यादव का गौरीचक सोहोगी मोड़ पर गिट्टी बालू कारोबार है. बालू गिट्टी के वाहन को संजीव यादव और उनके भाई चलाते हैं . इस हृदय विधायक घटना के बाद मृतक के परिवार वाले रोते बिलखते दोनों बच्चों के शवों के साथ जहानाबाद के लिए रवाना हो गए .मृत बच्चों में संजीव यादव का 4 साल का बेटा राजपाल एवं संजीव यादव के भाई टुक्कन की 4 साल की बेटी शामिल है. गांव वालों ने बताया कि संजीव यादव का इकलौता बेटा राजपाल की घटना में मौत हो गई.

स्थानीय लोगों के मुताबिक नगर परिषद वार्ड नंबर 21 के सोहगी रामपुर में संजीव यादव का बालू कारोबारी का अपना मकान नया ही बना है.उनके घर के बाहर पुरानी अल्टो कर हमेशा लगी रहती है संजू यादव का 4 साल का बेटा और उनके भाई की 4 साल की बेटी कर में खेलने चले गए कर का दरवाजा अंदर से बंद हो गया लोगों का मानना है कि दोनों बच्चे माचिस आदि लेकर अंदर खेलने लगे होंगे जिससे आग लग गई.कार के अंदर आग लगते ही धूंआ के चलते दोनों का दम घटने लगा . कार में आग और धुआं देखकर परिजन और आसपास के लोग वहां दौड़े. इस बीच अचानक कारके भीतर आग लग गई.कार में आग लगा देख परिजन और आसपास के लोगों में हड़कंप मच गया.

Advertisements
Ad 2

लोगों ने आग बुझाने का प्रयास किया लेकिन तब तक कुछ ही पलों में कार के भीतर ही दोनों मासूम बच्चों की जलकर मौत हो गई . लोगों ने कार का शीशा तोड़कर बच्चों को जब निकाले तो दोनों पूरी तरह जल चुके थे, हालांकि एक बच्चे का सांस चल रहा था जिसे अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल में चिकित्सकों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया. घटना के बाद संजीव यादव के परिवार में रोना पीटना मच गया. परिवार की महिला एवं आसपास के गांव जवार की महिलाऐं वहां विलाप करने लगी . मौके पर पहुंची 112 डायल पुलिस लोगों से पूछताछ के बाद बैरंग वापस लौट गई .वही गांव वालों ने बताया कि गौरीचक थाना पुलिस को उसकी जानकारी मिली है लेकिन कोई नहीं आया.

गौरी चक थाना अध्यक्ष कृष्ण कुमार ने बताया कि उन्हें ऐसी कोई जानकारी गांव वालों से नहीं मिली है. गांव वालों का कहना है कि परिवार वाले बिना पोस्टमार्टम कराए और बगैर थाना पुलिस को सूचना दिए ही बच्चों के शवों को दाह संस्कार के लिए लेकर जहानाबाद चले गए।

Related posts

गलत के खिलाफ उठाए आवाज और जागरूक होकर बच्चों को सही राह दिखाएं मुस्लिम महिलाएं : बुशरा रहमान

सौ बेड का हो गया कर्मचारी राज्य आदर्श बीमा अस्पताल

भूमि विवाद में जम कर चली गोली, गिरा दिया चहारदीवारी

error: