पूर्व रेल मंत्री के याद मे दिल्ली में हुआ कार्यक्रम, नही रहा बिहार के लोगों को याद!

नई दिल्ली(संतोष तोमर): देश को नई दिशा देने वाले ललित बाबू को बिहार के लोगों ने ही नही भूलाया बल्कि यहां की सरकार ने भी उन्हें याद करना मुनासीब नही समझा, यही चुनावी वर्ष होता तो उनकी प्रतिमाओं पर माथा टेकने छोटे क्या बड़े-बड़े नेता आते । भारत में रेल लाईनों का आज जो जाल बिछा है उसमें ललित बाबू का बहुत बड़ा योगदान रहा है। खासकर बिहार, जहां रेल का विस्तार परवान पर है। यहां नेता तो हुए लेकिन नियत किसी की भी साफ नही रही और ना ही ललित बाबू की तरह अपनी जगह जनता के दिलों में बना सके.

2 फरवरी को दिल्ली के कंस्ट्रकशन कलव के स्पिकर हाल, रफी मार्ग नई दिल्ली में ललित बाबू का 98 वां जन्मदिन मनाया गया, इस अवसर पर सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायधिश व प्रेस कांउसिल आफ इंडिया के चेयर मेन सीके प्रसाद ने ललित बाबू को सदी के महान नेता बताया , उन्होंने कहा कि हम ललित बाबू को ऐसे समय में भूला गए जब उनके जैसे नेताओं की प्रासंगिगता बढ़ गई है.

वहीं श्री यशोवर्धन आजाद पूर्व सेंट्रल कमीशनर, श्री निरज शेखर राज्य सभा सांसद, श्री सतीश चन्द्र दुवे राज्य सभा सांसद, तथा श्रीमती प्रियंका चतुर्वेदी राज्य सभा सांसद भारत ने भी ललित बाबू को सदी के महान नेता बताया। उपरोक्त सम्मानित सदस्यों ने इस अवसर पर मौजूद होकर ललित बाबू के गृह राज्य का मान रखा। स्व० ललित नारायण मिश्र के 98 वां जयंती पर बक्सर के इन्जीनियर निशीत जी, इकोनोमी इंडिया के संपादक मनोहर मनोज, राज्य सभा टीवी चैनल के वरिष्ठ पत्रकार राज चावला आदि ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया और स्व० ललित नारायण मिश्र को श्रद्धा सुमन अर्पित कर अपने उदगार व्यक्त किये. धन्यवाद ज्ञापन ललित बाबू के पोत्र वैभव मिश्र सर्वोच्य न्यायालय के अधिवक्ता ने की।