बिहार

सामूहिक प्रयास से राष्ट्रीय कृमि दिवस कार्यक्रम को बनायें सफल : डीडीसी

Advertisements
Ad 4

अररिया(रंजीत ठाकुर): राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम की सफलता को लेकर प्रशासनिक कवायद तेज हो गयी है। इस विशेष कार्यक्रम के तहत आगामी 16 मार्च को जिले में विशेष अभियान संचालित कर 1 से 19 साल तक के किशोर-किशोरियों को कृमि मुक्ति दवा का सेवन कराया जायेगा।

अभियान में किसी कारण दवा सेवन से वंचित बच्चों को दवा सेवन कराने के उद्देश्य से आगामी 20 मार्च को मॉपअप राउंड संचालित किया जायेगा। इसकी सफलता को लेकर जिला समन्वय समिति की बैठक शनिवार की देर शाम उप विकास आयुक्त मनोज कुमार की अध्यक्षता में आयोजित की गयी। बैठक में अभियान से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करते हुए लक्षित आयु वर्ग के शत प्रतिशत बच्चों को दवा सेवन सुनिश्चित कराने से जुड़ी रणनीति पर विस्तृत चर्चा की गयी।

सामूहिक प्रयास से अभियान को बनायें सफल

डीडीसी मनोज कुमार ने कहा कि कृमि नाशक दवा अल्बेंडाजोल बेहद सुरक्षित व उपयोगी दवा है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के मौके पर 16 मार्च को जिले में विशेष अभियान संचालित कर 01 से 19 साल तक के किशोर-किशोरियों को दवा का सेवन कराया जायेगा। इस क्रम में कोविड संक्रमण संबंधी सुरक्षात्मक उपायों का पूरा ध्यान रखा जायेगा।

उन्होंने बताया कि 1-5 साल के बच्चों को यह दवाई आंगनबाड़ी केंद्र, 6-19 साल के बच्चों को यह दवा स्कूलों में खिलाई जायेगी। स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों को संबंधित क्षेत्र की आशा व आंगनबाड़ी सेविका के माध्यम से दवा का सेवन कराया जाना है। उन्होंने कहा कि शिक्षक, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा व संबंधित एएनएम अपने सामने ही बच्चों को दवा का सेवन करायें। उन्होंने सामूहिक प्रयास से अभियान को सफल बनाने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया।

Advertisements
Ad 2

कृमि नियंत्रण किशोरों के सर्वांगीण विकास के लिये जरूरी

सिविल सर्जन डॉ विधानचंद्र सिंह ने कहा कि किशोर-किशोरियों में कृमि नियंत्रण के कई फायदे हैं। इससे खून की कमी में सुधार के साथ, बेहतर पोषण स्तर प्राप्त होता है। बच्चों की कार्यक्षमता व संतुलित शारीरिक व मानसिक विकास के लिहाज से भी ये जरूरी है। वातावरण में कृमि की संख्या कम होने से समुदाय को इससे लाभ होता है। उन्होंने अभिभावकों से निर्धारित आयु वर्ग के सभी बच्चों का दवा सेवन सुनिश्चित कराने में अपेक्षित सहयोग की अपील की।

जिले में 17.23 लाख बच्चों को दवा खिलाने का लक्ष्य –

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी सह कार्यक्रम के नोडल पदाधिकारी डॉ मोईज ने कहा कि राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के मौके पर जिले के 17 लाख 23 हजार 71 बच्चे व किशोरों को कृमि नाशक दवा खिलाने का लक्ष्य निर्धारित है।

शत-प्रतिशत बच्चों को दवा सेवन सुनिश्चित कराने के उद्देश्य से इस बार सरकारी विद्यालयों के साथ-साथ निजी विद्यालय, कोचिंग संस्थान पर भी खासतौर पर फोकस किया जा रहा है। ताकि अभियान को सफल बनाया जा सके। बैठक में डीईओ राज कुमार, आईसीडीएस डीपीओ रंजना सिंह, डीपीएम संतोष कुमार, डीएमएनई पंकज कुमार, डीसीएम सौरव कुमार सभी एमओआईसी, बीएचएम व अन्य मौजूद थे।

Related posts

गंगा किनारे शहरवासीयों ने लिया 1 जून को मतदान करने की शपथ

संफिक्स के नशे की गिरफ्त में मासूम का बचपन

ट्रांसफार्मर से तेल चोरी करते पकड़े गए तीन चोर, गिरोह का हुआ पर्दाफाश