बिहार

बीआईटी मेसरा कैंपस में राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम

फुलवारी शरीफ़, अजीत। बीआईटी पटना कैम्पस में देश के 12 राज्यों के रा.से.यो. के 200 स्वयं सेवक छात्र एवं पदाधिकारियों के राष्ट्रीय एकता शिविर के छठे दिन एसआईएस के ग्रुप एसडी, ऋतुराज सिन्हा ने “युवाओं को अमृत काल का साक्षी” बनने का आह्वाहन किया एवं सुशील कुमार, एसपी, ईओयु, ने साईबर समस्याओं का निदान बताया.गुरुवार को क्षेत्रीय निदेशक रा. से.यो. पटना बिहार द्वारा आयोजित 7 दिवसीय राष्ट्रीय एकीकरण शिविर 2023-24 के छठे दिन द्वितीय सत्र में भविष्य का भारत आजादी का अमृत काल पर संगोष्ठी का आयोजन बी.आई.टी मेसरा पटना कैंपस में किया गया.

कार्यक्रम का शुभाराम लक्ष्य गीत से किया गया ततपश्चात कार्यक्रम के मुख्य वक्ता ऋतुराज सिन्हा, एम डी एस आई एस सिक्योरिटी एजेंसी को पुष्पगुच्छ भेट करके बी.आई.टी पटना कैम्पस के कुलसचिव तृषा कुमारी एवं क्षेत्रीय निदेशक गिरधर उपाध्याय ने अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया, वही स्वागत भाषण समन्वयक श्री श्रीधर कुमार ने दिया.

ऋतुराज सिन्हा ने सभी स्वयंसेवको एवं कार्यक्रम पदाधिकारीयो को संबोधित करते हुए कहा कि आपने जीवन में जब भी सीखने का मौका मिले सीखते रहना चाहिए. आज इस शिविर में आकर मुझे भी बहुत कुछ सीखने का अवसर प्राप्त हुआ है. उन्होने नयी युवा पीढ़ी जिसका जन्म सन् 2000 के बाद हुआ उसे भारत के अमृत काल का स्तम्भ बताया और उस पर भारत को विश्व गुरू बनाने की जिम्मेदारी है . राजनीति को एक मंच बनाकर समाज का सेवा करना यही मेरा लक्ष्य है.आज बी.आई.टी. कैम्पस में एक मिनी भारत को देखने का अवसर मुझे प्राप्त हुआ है.

1700 ई. में भारत देश में जी.डी.पी में 30 प्रतिशत का भागीदार था. हम सभी को मिलकर उस इतिहास को पुनः दोहराना होगा. आज भारत विश्व का पांचवा सबसे बड़ा उभरता हुआ इकोनामी है. स्टार्टअप में भी हम तीसरे स्थान पर है, आगामी 25 वर्ष भारत के लिए स्वर्णिम काल है.भारत में अधिक समस्याएं है लेकिन इन सभी समस्याओं को पीछे छोड़ हम सभी को आगे बढ़ना होगा अभी भी हमारे देश में 40 करोड़ से अधिक लोग गरीबी रेखा से नीचे आते है उन सभी को गरीबी रेखा से ऊपर लाना हम सभी का लक्ष्य होना चाहिए. हम सभी का यह संकल्प होना चाहिए कि भारत को एक विकसित देश बनाना है.

Advertisements
Ad 2

वहीं दूसरे सत्र के मुख्य वक्ता सुशील कुमार, पुलिस अधीक्षक आर्थिक आर्थिक अपराध इकाई, पटना ने सभी स्वयंसेवक एवं कार्यक्रम पदाधिकारीयो को संबोधित करते हुए कहा कि पहले की अपेक्षा आज वर्तमान समय में साइबर क्राइम ऑनलाइन अपराध की संख्या अधिक हो गई है ऐसे मैं आप सभी को घाबराने की आवश्यकता नहीं है. विभाग तेजी से सभी शिकायतों का समाधान करता है. उन्होंने बताया कि आप सभी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर मजबूत पासवर्ड बनाएं, फर्जी वेबसाइट, अननोन लिंक पर क्लिक न करे एवं अपने सभी सोशल मीडिया अकाउंट एवं जीमेल पर टू स्टेप वेरीफिकेशन जरूर ऑन रखें ताकि साइबर अपराधों से बचा जा सके.

उन्होंने यह भी बताया कि आजकल साइबर अपराधी अपराध करने के लिए नए-नए तरीके अपना रहे है जैसे वीडियो क.ल, पार्ट टाइम जॉब इत्यादि इन जैसे सभी अपराधो की शिकायत हेतु देशभर में एक साइवर क्राइम संबंधित शिकायतों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है जो की 1930 है. जिन्हें भी साइबर अपराध से संबंधित किसी भी प्रकार की शिकायत करनी हो वह हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से कर सकते है.

वही कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापन डॉ० विकास चंद्रा (कार्यक्रम समन्वय, वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय आरा) द्वारा किया गया. कार्यक्रम में युवा अधिकारी प्रियव्रत मंडल, डॉ० एस एस यादव सहित अन्य कई अधिकारी मौजूद थे.

Related posts

गलत के खिलाफ उठाए आवाज और जागरूक होकर बच्चों को सही राह दिखाएं मुस्लिम महिलाएं : बुशरा रहमान

सौ बेड का हो गया कर्मचारी राज्य आदर्श बीमा अस्पताल

भूमि विवाद में जम कर चली गोली, गिरा दिया चहारदीवारी

error: