बिहार

परिवार नियोजन सुविधाओं को लोगों तक पहुंचाने में सहायक बनकर उभर रहा है परिवार नियोजन कार्नर

Advertisements
Ad 4

कटिहार, (न्यूज़ क्राइम 24)  शादी के बाद नवदम्पतियों को परिवार नियोजन सुविधाओं की जानकारी और लाभ की बहुत आवश्यकता होती है। इसके लिए वे अपने अभिभावकों और दोस्तों से भी ज्यादा चर्चा नहीं कर सकते। ऐसे में उन्हें विशेष स्वास्थ्य सलाहकार की जरूरत होती है। जिसके माध्यम से उन्हें सभी जानकारी मिलने के साथ उनके पास से आसानी से सुविधा भी उपलब्ध हो सके। लोगों के इसी सुविधा को उपलब्ध कराने में सार्थक साबित हो रहा है कटिहार सदर अस्पताल के ओपीडी में संचालित परिवार नियोजन कार्नर। वहां से लोगों को परिवार नियोजन के स्थायी और अस्थायी सुविधाओं की न सिर्फ जानकारी प्राप्त होती है, बल्कि उनके द्वारा वहां से सुविधाओं का लाभ भी उठाया जाता है।

लोगों के लिए सदर अस्पताल के ओपीडी में पिछले 12 वर्षों से परिवार नियोजन कार्नर का संचालन किया जा रहा है। इस सप्ताह सदर अस्पताल में संचालित परिवार नियोजन कार्नर को और अच्छे तरह से संवारा गया है। कार्नर के आसपास परिवार नियोजन के सभी सुविधाओं की होर्डिंग्स लगाई गई है, जिससे कि ओपीडी में उपलब्ध लोगों बिना किसी संकोच के परिवार नियोजन के विभिन्न संसाधनों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। किसी दंपती को किसी समस्या पर विशेष जानकारी प्राप्त करने के लिए कार्नर में परिवार नियोजन काउंसेलर कुमारी किरण उपलब्ध रहती हैं। जिसके माध्यम से लोग परिवार नियोजन के स्थायी और अस्थायी सुविधा की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

कार्नर में लोगों को सुविधा की जानकारी के साथ उपलब्ध कराया जाता है किट्स :

सिविल सर्जन डॉ जितेंद्र नाथ सिंह ने बताया कि परिवार नियोजन कार्नर के माध्यम से लोगों को परिवार नियोजन के विभिन्न विकल्पों की जानकारी उपलब्ध कराई जाती है। इसके अनुसार लोगों को सुविधा के रूप में इच्छुक परिवार नियोजन सुविधाओं का लाभ दिया जाता है। इसके लिए कार्नर पर परिवार नियोजन के सभी अस्थायी सुविधाओं की किट्स उपलब्ध रहती है। इसमें कंडोम्स, ईसी पिल्स, माला-एन, छाया टैबलेट्स के साथ अंतरा सुई और कॉपर-टी सुविधा उपलब्ध है। लोगों को कार्नर पर इन सभी परिवार नियोजन के अस्थायी किट्स के साथ इसके उपयोग करने की आवश्यक जानकारी उपलब्ध कराई जाती है।

इसके अलावा परिवार नियोजन कार्नर के काउंसेलर द्वारा अस्पताल में मातृत्व सुविधा का लाभ उठाने वाले दंपतियों को भी माँ और बच्चों के बेहतर स्वास्थ के लिए परिवार नियोजन के सुविधाओं का लाभ उठाने की जानकारी उपलब्ध कराई जाती है ताकि सभी लोग बिना संकोच अस्पताल में उपलब्ध इन सुविधाओं का लाभ उठा सके। उन्होंने बताया कि सदर अस्पताल के साथ ही कदवा प्रखंड में भी परिवार नियोजन कार्नर की सुविधा उपलब्ध है। इसके अलावा जिले के सभी अस्पतालों में परिवार नियोजन काउंसेलिंग की व्यवस्था और परिवार नियोजन किट्स उपलब्ध हैं जिसका लाभार्थियों द्वारा लाभ उठाया जाता है।

कार्नर के माध्यम से अस्पताल में उपलब्ध दंपत्तियों की नियमित होती है काउंसेलिंग :

जिला कार्यक्रम प्रबंधक (डीपीएम) भगवान प्रसाद वर्मा ने बताया कि अस्पताल में दंपत्ति प्रसव के दौरान चिकित्सकीय सहायता के लिए उपलब्ध होते हैं। इस दौरान उन्हें अस्पताल में माँ और बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए परिवार नियोजन के अस्थायी और अस्थायी सुविधा की जानकारी काउंसेलिंग के माध्यम से उपलब्ध कराई जाती है। ज्यादातर लोगों को अवांछित गर्भ के लिए कंडोम या ईसी पिल्स की जानकारी होती है लेकिन इसके अलावा भी बहुत से सुविधा के बारे में लोग नहीं जानते हैं। काउन्सेलिंग द्वारा ऐसे लोगों को दो बच्चों के बीच में अंतर रखने के लिए अंतरा इंजेक्शन और कॉपर टी की जानकारी दी जाती है।

लोग अंतरा इंजेक्शन का उपयोग कर तीन महीने तक और कॉपर टी का उपयोग कर बहुत समय तक अवांछित गर्भ होने से रोक सकते हैं। इसके अलावा प्रतिदिन अवांछित गर्भ रोकने के लिए लोग माला-एन और साप्ताहिक अवांछित गर्भ रोकने के लिए छाया टैबलेट का भी उपयोग कर सकते हैं। फैमिली प्लानिंग कार्नर के माध्यम से लोगों को यह जानकारी उपलब्ध कराने के साथ साथ इच्छुक दंपत्तियों को आवश्यक सुविधा उपलब्ध कराई जाती है जिससे कि लोग परिवार नियोजन सुविधा का लाभ उठाकर अपना परिवार स्वस्थ और खुशहाल रख सकें।

Advertisements
Ad 2

कार्नर होने पर बढ़ेगा परिवार नियोजन फैसिलिटी का उपयोग :

डीसीएम अश्विनी कुमार मिश्रा ने बताया कि वर्ष 2022-23 में कटिहार जिला से अंतरा इंजेक्शन के राज्य में सबसे ज्यादा उपयोग होने पर जिला को पुरस्कृत किया गया था। वर्ष 2023-24 में आशा स्ट्राइक के कारण इसमें कमी पाई गई है जिसे स्वास्थ्य विभाग द्वारा वर्ष 2024-25 में बेहतर प्रयास कर कमी को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। सदर अस्पताल में अलग से परिवार नियोजन कार्नर बनने और उसकी जानकारी ज्यादा से ज्यादा लोगों को होने से जिले में परिवार नियोजन फैसिलिटी के उपयोग में बढ़ोतरी होगी और ज्यादा से ज्यादा लोग आसानी से इन सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।

फैमिली प्लानिंग कार्नर मेरे स्वास्थ्य के साथ मेरे बच्चे के लिए रहा लाभदायक : लाभार्थी

कटिहार सदर (शहरी) की परिवार नियोजन कार्नर लाभार्थी प्रवीना खातून ने बताया कि उनकी शादी 18 वर्ष की उम्र में हुआ थी जिसके कुछ समय बाद वह गर्भवती हो गई थी। जांच के लिए अस्पताल आने पर उन्हें परिवार नियोजन के अस्थायी सुविधा के रूप में अंतरा इंजेक्शन की जानकारी मिली जिसका उपयोग कर तीन महीने तक गर्भ धारण रोका जा सकता है। पहले बच्चे के जन्म के बाद मैंने तीन साल तक लगातार इसका उपयोग किया। इससे मुझे कोई समस्या नहीं हुआ बल्कि मैं बिल्कुल स्वस्थ रहकर अपने बच्चे की अच्छी देखभाल कर सकी। तीन साल बाद मैंने हमने अपना दूसरा बच्चा प्लान किया है जिसके जांच के लिए नियमित अस्पताल पहुँचकर जानकारी और टीका लगवा रहे हैं। इसके जन्म के बाद परिजनों से परामर्श लेकर परिवार नियोजन के स्थायी सुविधा का लाभ उठाएंगे।

परिवार नियोजन के अस्थायी सुविधा की मासिक खपत में हो रही वृद्धि :

परिवार नियोजन काउंसेलर कुमारी किरण ने बताया कि पहले लोग परिवार नियोजन के अस्थायी सुविधा का लाभ उठाने से परहेज करते थे। एक केस में एक महिला ने बताया था कि उनके पड़ोस की महिला का लगातार माला-एन का टैबलेट खाने से वजन घटने लगा था। मैंने उन्हें बताया कि टैबलेट खाने से कोई रिएक्शन नहीं होता लाभार्थी महिला को कोई और समस्या होगी जांच करवाने की जरूरत है। उन्होंने पड़ोसी महिला की जांच करवाने की सलाह दी तो उन्हें दूसरी बीमारी की जानकारी मिली। उसी तरह एक महिला द्वारा कॉपर टी का उपयोग करने से ब्लीडिंग होने और दर्द होने की जानकारी प्राप्त हुई। फिर उन्हें काउन्सलिंग कर इसके उपयोग करने और समय पर इसके हटाने की जानकारी दी गई जिसके बाद उसके द्वारा इसका लाभ उठाया गया।

अंतरा सुई लगवाने पर महिलाओं को कुछ महीने मासिक धर्म नहीं होने की जानकारी दी जाती है। बहुत लोग इसका ध्यान नहीं रखने के कारण कुछ समय बाद घबराने लगते हैं। फिर जानकारी देने पर कुछ समय बाद वैसे दंपती खुद को सुरक्षित महसूस करते हैं और आसपास के अन्य लोगों को भी परिवार नियोजन के अस्थायी सुविधा का लाभ उठाने के लिए जागरूक करते हैं। इससे सदर अस्पताल के परिवार नियोजन कार्नर में लोगों के आने की संख्या में इजाफा हो रहा है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में सदर अस्पताल परिवार नियोजन कार्नर से हर माह 45-50 महिलाओं द्वारा अंतरा सुई, 120-150 महिलाओं द्वारा कॉपर-टी, 300-400 पैकेट्स माला-एन, 200-250 पैकेट्स छाया टैबलेट और 50-60 लोगों द्वारा ईसी पिल्स सुविधा का लाभ उठाया जा रहा है। परिवार नियोजन कार्नर पर कंडोम बॉक्स रखा जाता है जिससे कि इच्छुक लोग बिना संकोच लाभ उठा सकते हैं।

Related posts

एसएसबी ने विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से चलाया जागरूकता अभियान

फुलवारी शरीफ मे लो वोल्टेज से व्यापारी परेशान

थाना हाजत में जीजा साली ने की फांसी लगाकर आत्महत्या!