बिहार

केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह जी से मुलाकात की चिराग पासवान

बिहार मे उत्पन्न अराजक स्थिति को लेकर बेहद गंभीर लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री चिराग पासवान ने नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह जी से मुलाकात की। मुलाकात के दौरान श्री पासवान ने माननीय गृह मंत्री को पत्र के माध्यम से बिहार में बढ़ रहे अपराध, भू-माफियाओं की मनमानी, अवैध बालू खनन, ज़हरीली शराब से मौत, अनुसूचित जाति जनजाति के लोगों की निरंतरता में हत्या और महिलाओं को जिंदा जलाने की घटना से अवगत कराया और केंद्र सरकार से राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की।

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह जी को लिखे पत्र में श्री चिराग ने लिखा है कि बिहार में उत्पन्न अराजक स्थिति से लोग भयाक्रांत हैं। एक ओर जहां लगातार बढ़ रही अपराधिक घटनाओं से लोग सहमे हुए हैं, वहीं दूसरी ओर प्रशासनिक संरक्षण में बेची जा रही जहरीली शराब से हजारों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है।

इन घटनाओं से बिहार में चीख-पुकार मची हुई है और राज्य सरकार मुकदर्शक की भूमिका में है। उक्त मामले को लेकर विगत 17 दिसंबर को श्री चिराग के नेतृत्व में लोजपा (रामविलास) का एक प्रतिनिधिमंडल बिहार के महामहिम राज्यपाल फागू चौहान जी से मिलकर उन्हें राज्य में उत्पन्न स्थिति से अवगत कराया और इस संबंध में लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास ने बिहार में राष्ट्रपति शासन लागू करने हेतु उनसे अनुशंसा का अनुरोध भी किया।

पिछले दिनों सारण जिले में जहरीली शराब पीने से बड़ी संख्या में निर्दोष लोगों की जान चली गई। इस मामले में भी सरकार तथ्य छिपा रही है। मृतकों की संख्या 150 से अधिक है और ये सभी गरीब एवं कमजोर वर्ग के हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए श्री चिराग पीड़ित परिवार से मिले।

Advertisements
Ad 2

इस दौरान लोगों ने बताया कि प्रशासनिक संरक्षण में शराब की सहज उपलब्धता उस क्षेत्र में है। जिले के मशरख थाना क्षेत्र से जब्त स्पिरिट का गायब होना कई सवालों को जन्म दे रहा है।आज जो बिहार की स्थिति है उसमें यह कहना गलत नहीं होगा कि यहां कानून का राज पूरी तरह समाप्त हो गया है।

राज्य में बालू माफिया, शराब माफिया, भू-माफिया तथा अपराधी सरकार संरक्षित हैं और खुलकर अपनी गतिविधि चला रहे हैं। इस स्थिति ने आम जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित कर रखा है। राज्य में सरकार हर मोर्चे पर विफल हो चुकी है। अनुसूचित जाति/जनजाति के लोगों की हर रोज हत्याएं हो रही हैं।

प्रदेश में महिला हिंसा में भी तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। अरवल में एक महिला एवं उनकी 5 वर्षीय पुत्री को जिंदा जलाकर उनकी निर्मम हत्या कर दी गई है।उपरोक्त परिस्थिति बेहद गंभीर एवं चिंता पैदा करने वाली है।

उक्त सभी संदर्भों को लेकर श्री चिराग ने केंद्र सरकार से अनुरोध किए है कि बिहार की जनता के हित का ध्यान रखते हुए बिहार में कानून का राज कायम करने के लिए अविलंब हस्तक्षेप करते हुए उन्होंने केंद्र सरकार से राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की है

Related posts

महाशिवरात्रि को लेकर जिलाधिकारी ने कि बैठक

भारी मात्रा में विदेशी शराब जब्त!

जिले के हृदयरोग से पीड़ित 05 बच्चों को स्क्रीनिंग के लिए आरबीएसके टीम द्वारा भेजा गया पटना

error: