आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत स्वास्थ्य संस्थानों का हो रहा पंजीकरण

 आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत स्वास्थ्य संस्थानों का हो रहा पंजीकरण

अररिया(रंजीत ठाकुर): केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में देश में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत की गयी है। योजना का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य सुविधाओं का डिजिटाइजेशन किया जाना है। इसके तहत जिले के सभी स्वास्थ्य संस्थान जैसे सदर अस्पताल, अनुमंडल अस्पताल, रेफरल अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र , प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, उप स्वास्थ्य केंद्र व हेल्थ फैसिलिटी के पंजीकरण का कार्य संचालित है। स्वास्थ्य संस्थानों के रजिस्ट्रेशन के लिये सिविल सर्जन को नोडल व जिला अनुश्रवण व मूल्यांकन पदाधिकारी को वेरिफायर नामित किया गया है। आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत सभी हेल्थ प्रोफेशनल व हेल्थ फैसिलिटी का पंजीकरण किया जाना है। इससे सभी पेशेवर चिकित्सा कर्मी व स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे तक आधुनिक तकनीक की मदद से आसान पहुंच सुनिश्चित करायी जा सकेगी । इतना ही नहीं इसके माध्यम से आम लोगों को डिजिटल हेल्थ आईडी जारी किया जायेगा। इसमें लोगों के स्वास्थ्य संबंधी जानकारी डिजिटली संरक्षित होगी । इससे देश में कहीं भी लोगों को अपने इलाज की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी ।

हेल्थ फैसिलिटी का पंजीकरण 01 जुलाई तक कराने का है आदेश-

सिविल सर्जन डॉ विधानचंद्र सिंह ने बताया कि आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के सफल क्रियान्वयन को लेकर राज्य सरकार के कार्यपालक निदेशक के माध्यम से महत्वपूर्ण निर्देश हैं। इसमें 01 जुलाई से पूर्व सभी हेल्थ फैसिलिटी का पंजीकरण सुनिश्चित कराया जाना है। उन्होंने कहा कि डिजिटल हेल्थ मिशन के तहत लोगों को डिजिटल हेल्थ कार्ड बनाया जाना है। कार्ड में किसी व्यक्ति के पूरी मेडिकल हिस्ट्री दर्ज होगी। चिकित्सकीय परामर्श, जांच संबंधी रिपोर्ट सहित अन्य जानकारी इस कार्ड में दर्ज होगी । लोगों को इलाज के लिये चिकित्सीय परचा, जांच रिपोर्ट सहित अन्य कागजात लेकर कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी। कार्ड में दर्ज 14 अंकों के यूनिक आईडी के माध्यम से चिकित्सक रोगी से संबंधित पूरी डिटेल देख सकेंगे। मरीज घर बैठे देश के किसी भी डॉक्टर से जरूरी परामर्श प्राप्त कर सकेगा।

बेहतर होंगी स्वास्थ्य सेवाएं, आसान होगी लोगों तक पहुंच :

जिले में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के सफल क्रियान्वयन को लेकर स्वास्थ्य विभाग की सहयोगी संस्था पिरामल फाउंडेशन जरूरी तकनीकी मदद उपलब्ध करा रहा है। जानकारी देते हुए पिरामल स्वास्थ्य के डीटीएल संजय कुमार झा ने बताया कि डिजिटल माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी व जरूरी सेवाओं तक लोगों की आसान पहुंच सुनिश्चित कराना योजना का मुख्य उद्देश्य है। हेल्थ कार्ड बनाने के लिये नेशनल हेल्थ मिशन की वेबसाइट पर जाकर अपने आधार के माध्यम से आसानी से डिजिटल हेल्थ कार्ड बनाया जा सकता है।

कुर्साकांटा व भरगामा को छोड़ शेष संस्थानों का हो चुका है पंजीकरण-

सदर अस्पताल सहित जिले के 10 प्रमुख चिकित्सा संस्थानों के साथ-साथ कुल 269 चिकित्सकीय संस्थानों का पंजीकरण कराया जाना है। जानकारी देते हुए पिरामल स्वास्थ्य के पीएल राजीव कुमार ने बताया कि इसमें कुर्साकांटा व भरगामा पीएचसी को छोड़ कर अन्य संस्थानों का पंजीकरण संपन्न हो चुका है। इसी तरह योजना के तहत जिले में कार्यरत सभी चिकित्सक, एएनएम, पारा मेडिकल स्टॉफ सहित लगभग 700 से अधिक चिकित्सा कर्मियों का पंजीकरण आयुष्मान भारत डिजिटल हेल्थ मिशन के तहत कराया जाना है। जिले में इसकी कवायद शुरू हो चुकी है।

न्यूज़ क्राइम 24 संवाददाता

Related post