संविधान दिवस पर शिक्षण अधिगम एवं स्वास्थ्य का चिंतन

अररिया(रंजीत ठाकुर): गुरुवार को उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय, अमौना में भारतीय संविधान दिवस और उत्प्रेषित छात्र/छात्राओं के माता पिता के साथ एक बैठक आयोजित की गई. सर्वप्रथम संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर तथा संविधान प्रारुप समिति के अध्यक्ष डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद के तैलचित्र पर माल्यार्पण और पुष्पार्पित कर नमन किया गया तथा संविधान के प्रस्तावना को शपथ के रुप पढ़ा गया. कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्यालय प्रधानाध्यापक प्रकाश चंद्र विश्वास ने की तथा अपने संबोधन में उन्होंने कहा संविधान किसी भी लोकतंत्र राष्ट्र के लिए नींव,स्तंभ एवं छत के समान होता है। स्वतंत्रता पश्चात भारत के संविधान निर्माण में दो वर्ष ग्यारह महीने तथा अट्ठारह दिन लगे।संविधान में हमें हर तरह काअधिकार प्राप्त है तो हमारा परम कर्तव्य बनता है इसका सम्मान करते हुए राष्ट्र को परम वैभव पर ले चलें। बिना संविधान का राष्ट्र उसी तरह होता है जिस तरह बिना हड्डी का शरीर. फिर दूसरे सत्र में 2021 में मैट्रिक परीक्षा में शामिल होने वाले उत्प्रेषित छात्र /छात्राओं के अभिभावकों के साथ बैठक की गई ,जिसमें कोरोनाकाल में बच्चों की पढ़ाई में काफी क्षति हुई, जिसके कारण बचे ढाई महीनों में बच्चों को घर एवं विद्यालय में पढ़ाई के प्रति बच्चों के साथ साथ हमें सजग रहकर परीक्षा परिणाम अच्छा के लिए प्रेरित करना होगा. साथ ही सभी बच्चों ,अभिभावकों तथा कोविड19.के प्रति सजग और सतर्क रहकर दो गज दूरी तथा मास्क है जरूरी का अनुपालन हमसबों को अनिवार्य रूप से करना होगा. इस अवसर पर शिक्षक अरुणा कुमारी, अशरफ फरहत अली,बिजेन्द्र पासवान,असलम प्रवेज, नाजरा बानो, बबीता कुमारी, सोनी चौरसिया,मुकेश कुमार, राजीव झा,मोहम्मद अजीम,ज्योति कुमारी, कुमारी सोनी अभिभावकों में,मौलाना मुर्तुजा, रौशन खातुन, बाल संसद से कंचन , नाहेदा,आसीम,इमरान आदि उपस्थित थे।