क्राइमबिहार

शराब कारोबार का किया विरोध तो युवक की गोली मार कर दी हत्या!

Advertisements
Ad 4

फूलवारीशरीफ(अजित यादव): करोड़ी चक में शराब बेचने वाले कारोबारियों का जब मैट्रिक में पढ़ने वाले लड़के और उसके परिवार ने विरोध किया तो बदमाशो के साथ मिलकर शराब कारोबारी स्व कृष्णा रॉय के बेटे राकेश राय ने गोली मार उस वक्त हत्या कर दी जब व गांव में देर रात एक बारात में शामिल होने निकला था । हत्या की यह वारदात बुधवार की देर रात्रि करोड़ी चक गांव में देर रात्रि हुई जब रामवचन पाल की बेटी की बारात लग रही थी । बारात लगने के दौरान बैंड बाजो की आवाज के बीच बदमाशों ने बीस वर्षीय अभिषेक उर्फ छोटकी के सर में गोली मार फरार हो गए । छोटकी को गोली लगने की।जानकारी मिलते ही बारात में अफरा तफरी मच गई । वही गांव से दौड़े उसके परिजनों ने आनन फानन पीएमसीएच ले गए जहाँ उसे चिकित्सको ने मृति घोषित कर दिया ।मृतक अभिषेक ने अनीसाबाद के दरोगा राय हाई स्कूल से मैट्रिक की परीक्षा पास किया था। घटना से गांव में आक्रोश का माहौल है। बता दें की इससे पहले भी शराब कारोबार का विरोध करने पर कई लोगो की हत्या हो चुकी है बावजूद पुलिस लापरवाही बरत रही है और शराब कारोबारी दिन रात बेखौफ धंधा चला रहे हैं । स्थानीय लोगो का कहना है कि शराब कारोबारियों का स्थानीय पुलिस से मिलीभगत है जो विरोध करने वालों की हत्या करने से गुरेज नही करते है।
मृतक के चाचा जानकी पाल ने बताया कि उनके बड़े भाई स्व चंदू पाल के छोटे बेटे अभिषेक की हत्या से पहले गांव के ही राकेश राय ने दीपावली की रात शराब गंजा बेचने के विरोध को लेकर घर मे घुसकर मारपीट किया था । दीपावली रात मारपीट के बाद जब हमलोगों ने थाना में केस किया तो उस केस को उठाने की लगातार धमकी मिल रही थी। केस नही उठाने के चलते ही राकेश राय ने अपने साथ सत्येंद्र यादव करोडिचक ,दीपक महतो ब्रहमपुर,अनिल कुमार कल्लू,करोड़ी चक, अंकित कुमार ब्रहमपुर ,अनुराग राज उर्फ बिट्टू करोड़ी चक ने मिलकर अभिषेक की हत्या कर दिया है। इनलोगो के खिलाफ फूलवारी थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। साथ ही परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि शराब कारोबारी राकेश ने जब दीपावली में अभिषेक के साथ मारपीट किया और घर मे घुसकर मारपीट किया था तब पुलिस ने उससे मिलीभगत से कोई कार्रवाई नही किया । इतना ही नही उल्टे अभिषेक और उसके परिवार के खिलाफ़ झूठा मामला तक दर्ज करा दिया गया । परिजनों ने आरोप लगाया है कि अगर समय रहते शराब कारोबारियों के खिलाफ़ पुलिस करवाई करती तो आज अभिषेक की हत्या नही होती । वही गुरुवार को देर शाम पोस्टमार्टम के बाद जब अभिषेक की लाश करोड़ी चक गांव पहुंची तो परिजनों में चीत्कार मच गया। पूरे गांव में ग्रामीणों में जबरदस्त आक्रोश के माहौल को देखते हुए भारी पुलिस बल को मुस्तैद कर दिया गया है। अपने छोटे बेटे अभिषेक की लाश देख मा बेबी देवी बड़े भाई अजित दो बहनों का रो रो कर बुरा हाल हो रहा था । पुलिस ने इस हत्या के मामले में नामजद प्रमुख आरोपित राकेश राय की पत्नी बेटे और दो बेटियों को उठाकर गिरफ्तारी का दबाव बनाने में जुटी है । पुलिस का कहना है कि सभी आरोपित फरार है उनके ठिकानों पर दबिश दी जा रही है।

Advertisements
Ad 2

Related posts

गंगा किनारे शहरवासीयों ने लिया 1 जून को मतदान करने की शपथ

संफिक्स के नशे की गिरफ्त में मासूम का बचपन

ट्रांसफार्मर से तेल चोरी करते पकड़े गए तीन चोर, गिरोह का हुआ पर्दाफाश