दो वर्षों में 792 रूट किलोमीटर का विद्युतीकरण कार्य पूरा!

हाजीपुर(न्यूज़ क्राइम 24): पूर्व मध्य रेल द्वारा परिचालन क्षमता में विकास हेतु रेलखंडों का पूर्ण विद्युतीकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है । इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए रेलखंडों का विद्युतीकरण तेजी से किया जा रहा है ।इसी का परिणाम है कि पूर्व मध्य रेल द्वारा कुल रेलमार्गों में से 84 प्रतिशत रेलमार्ग विद्युतीकृत कर लिए गए हैं ।पिछले दो वर्षों में ही 792 रूटकिलोमीटर का विद्युतीकरण कार्य पूरा किया गया जिससे डीजल मद में व्यय होने वाले 833 करोड़ रूपए की बचत हुइ है।

अब तक पूर्व मध्य रेल द्वारा लगभग 4008 रूटकिलोमीटर में से 3369 रूटकिलोमीटर का विद्युतीकरण पूरा कर लिया गया है । वर्ष 2019-20 में 565 रूटकिलोमीटर का विद्युतीकरण पूरा किया गया जबकि वर्ष 2020-21 के नवंबर माह तक 227 रूटकिलोमीटर विद्युतीकरण का कार्य पूरा किया जा चुका है । शीघ्र ही सभी रेलमार्गों को विद्युतीकृत कर लिया जाएगा । इस प्रकार पूर्व मध्य रेल के 05 में से पंडित दीन दयाल उपाध्याय, सोनपुर एवं दानापुर सहित कुल 03 मंडल शत-प्रतिशत विद्युतीकृत किए जा चुके हैं । शीघ्र ही धनबाद मंडल के सभी रेलखंड विद्युतीकृत हो जाएंगे साथ ही समस्तीपुर मंडल के शेष बचे रेलखंड का विद्युतीकरण कार्य तीव्र गति से जारी है । पूर्व मध्य रेल के पांचों रेलमंडलों में से पंडित दीन दयाल उपाध्याय मंछल को भारतीय रेल का पहला शत-प्रतिशत विद्युतीकृत रेलमंडल होने का गौरव प्राप्त है ।

विद्युत इंजन से परिचालन होने के परिणामस्वरूप एच.एस.डी. तेल की बचत के कारण रेल राजस्व की बचत हो रही है । वर्ष 2019-20 में विद्युतीकरण से डीजल के मद में व्यय होने वाले 362 करोड़ रूपए की बचत हुई । इसी तरह चालू वित्त वर्ष 2020-21 के नवंबर माह तक डीजल के मद में व्यय होने वाले 471 करोड़ रूपए की बचत हुई है ।

विद्युतीकरण से कई फायदे हुए एक ओर जहां ट्रेनों एवं मालगाड़ियों की गति में वृद्धि की जा सकी वहीं विद्युत इंजन से ट्रेनों के परिचालन से समय पालन में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज हुई है । ग्लोबल वार्मिंग को कम करने और जलवायु परिवर्तन से निपटने में भी काफी सहायता मिल रही है गैर परंपरागत ऊर्जा को बड़े पैमाने पर प्रोत्साहन देने से न केवल ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्चित हो रही है बल्कि जलवायु की भी रक्षा हो रही है । साथ ही साथ डीजल क्रय में लगने वाली बहुमूल्य विदेशी मुद्रा की बचत करते हुये डीजल पर निर्भरता समाप्त करने में मदद मिलेगी।