ग्रामीणों के शिकायत पर दो दिनों से कर रहे हैं जदयू जिला सचिव निरीक्षण

अररिया(रंजीत ठाकुर): बथनाहा अतिरिक्त उपस्वास्थ्य केंद्र एक मात्र परिचारी के भरोशे चल रहा है। यहाँ प्रतिनियुक्त डॉक्टर व नर्स कब आते है और कब जाते है किसी को पता नहीं चलता है।लगातार कई दिनों से उप स्वास्थ्य केंद्र  का अलग-अलग समय में संवाददाता के द्वारा जांच करने के बाद उप स्वास्थ्य केंद्र को बंद  पाया गया । वहीं  गुरुवार व शुक्रवार को जदयू के जिला सचिव नीतीश मेहता के द्वारा भी उपस्वास्थ्य केंद्र का जाँच किया गया  जाँच के बाद उन्होंने कहा कि स्थानीय ग्रामीणों से लगातार शिकायत मिल रही थी कि ईलाज के लिए उपस्वास्थ्य केंद्र जाने के बाद निराशा ही हाथ लगती है । यहाँ न तो डॉक्टर आते है और न ही नर्स ।  श्रीमेहता ने कहा कि उप स्वास्थ्य केंद्र का मैं लगातार दो दिनों तक जांच किया हूं, लेकिन यहां ना तो प्रतिनियुक्त डॉक्टर मिले और ना ही नर्स और न ही कोई कर्मी। उन्होंने कहा कि गुरुवार को जब डॉक्टर नर्गिस जमाल को फोन लगाया गया तो उनके पति ने फ़ोन रिशिव किया व कहा कि आज डॉक्टर व प्रतिनियुक्त नर्स छुट्टी पर है,जबकि शुक्रवार को उपस्वास्थ्य केंद्र को खुला देखकर जब अंदर गए तो वहाँ एक मात्र परिचारी मो० इस्माइल  मौजूद थे उन्होंने कहा कि डॉक्टर व नर्स आज नही आए है,कभी कभी आते है।जबकि इसी प्रांगण में पोखर की खुदाई कर रहे मनरेगा मजदूरों-
तेतरी देवी ,आशा देवी ,ललिता देवी ,सावित्री देवी ,रंजू देवी ,पिंकी देवी ,मनिया देवी ,शोभनी देवी ,नीलम देवी ,ननकी देवी ,बिजली देवी आदि  ने बताया कि लगातार चार दिनों से हम लोग यहाँ कार्य कर रहे है, लेकिन हमलोगों ने कभी किसी स्वाथ्य कर्मी को नहीं देखा और न ही उपस्वास्थ्य केंद्र को आज से पहले खुलते देखा. उपस्वास्थ्य केंद्र के उद्घाटन के बाद ग्रामीणों में वर्षो बाद आस जगी थी की अब उन्हें स्वास्थ्य सुविधा के लिए बथनाहा से बाहर नही जाना पड़ेगा । वहीं उद्धघाटन के मौके पर आए विधायक मंचन केशरी व स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों के द्वारा कहा गया था, कि अब इस उपस्वास्थ्य केन्द्र में जीवन रक्षक दवाओं के साथ साथ गरीबों का ईलाज के लिए डॉक्टर भी मौजूद रहेंगे और ईलाज भी होगा । लेकिन इन गरीब ग्रामीणों को क्या मालूम था कि उपस्वास्थ्य केंद्र के उद्घाटन के कुछ दिनों बाद से ही प्रतिनियुक्त डॉक्टर व नर्स यहाँ नजर भी नही आएंगे.

स्वाथ्य सुविधा के लिए तरस रहे है बथनाहा के ग्रामीण –

बथनाहा में करोड़ो रुपए की लागत से बने उपस्वास्थ्य केंद्र का निर्माण फारबिसगंज के तत्कालीन विधायक लक्ष्मी नारायण मेहता के द्वारा करवाया गया था, लेकिन निर्माण के काफी लंबे इंतजार के बाद दिनांक – 05 मार्च 2019  को उपस्वास्थ्य केंद्र बथनाहा का उद्घाटन विधायक मंचन केसरी के द्वारा  किया गया था। उद्घाटन के पश्चात  कुछ दिनों तक तो यहाँ प्रतिनियुक्त डॉक्टर व नर्स आए व लोगो को जीवन रकक्ष दवाइयां भी वितरित किया लेकिन पुनः डॉक्टर व नर्स आना छोड़ दिए जिसके बाद लोगो को पुनः ईलाज के लिए फारबिसगंज ही जाना पड़ रहा है ।
जबकि उपस्वास्थ्य केंद के उद्धाटन के मौके पर मौजूद थे स्वास्थ्य विभाग के वरीय डॉक्टर.

उद्घाटन के मौके पर डॉ अजय कुमार सिंह के द्वारा कहा गया था कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से दो एएनएम,एक परिचारी कि स्थाई रूप से प्रतिनियुक्ति की गई है । जबकि सप्ताह में दो दिन मंगलवार को  डॉ रूपेश कुमार व शानिवार को डॉ नर्गिस जमाल   उप स्वाथ्य केंद्र में सेवा देंगे ।  उप स्वास्थ्य केंद्र में  मरीजों के इलाज के लिए दो बेड भी लगाया गया था । वहीं उन्हों ने यह भी कहा था कि सामान्य बीमारी खासी ,सर्दी ,बुखार,उल्टी, पतला दस्त व अन्य जीवन रक्षक दवा उपस्वास्थ्य केंद्र में उपलब्ध रहेगा। लेकिन इस उपस्वास्थ्य केंद्र के चालू होने से बथनाहा, सोनापुर, भंगही , अमौना , सहवाजपुर आदि के लाखों गरीब ग्रामीणों को इलाज के लिए सुविधा होता जबकि इस क्षेत्र के गरीब ग्रामीणों के लिए अब भी फारबिसगंज स्थित रेफरल अस्पताल ही एकमात्र सहारा है.

कोट-

सप्ताह में तीन दिन प्रतिनियुक्त किया गया है । प्रतिनियुक्त डॉक्टर अवकाश पर थे जिस कारण बथनाहा नहीं जा पा रहे है । प्रतिनियुक्त डॉक्टर अपने निर्धारित सिड्यूल के हिसाब से सेवा दे रहे है.
राजीव बसाक, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, फारबिसगंज

जिन डॉक्टरों की प्रतिनियुक्ति की गई है वे अगर निर्धारित दिन को बथनाहा उपस्वास्थ्य केंद्र नही जाते हैं तो उनके विरुद्ध विभागीय करवाई के लिए सिविल सर्जन व स्वाथ्य मंत्री को लिखा जाएगा.
मंचन केशरी, विधायक फारबिसगंज


मामले की जानकारी हमें नहीं थी आपके द्वारा मामले को संज्ञान में लाया गया है इसकी जाँच करवाई जाएगी तथा जाँच के बाद करवाई भी की जाएगी.
रूपनारायण प्रसाद, सिविल सर्जन, अररिया