करोड़ो की लागत से बने पंचायत सरकार भवन उद्धघाटन से पहले जीर्णशीर्ण

अररिया(रंजीत ठाकुर): नरपतगंज प्रखंड क्षेत्र के अचरा पंचायत अंतर्गत निर्मित पंचायत सरकार भवन उद्घाटन से पूर्व ही जीर्णशीर्ण हो चुका है। पंचायत सरकार भवन में कभी ना तो पंचायत से संबंधित लेखा-जोखा का कार्य किया गया है, और ना ही कभी इस भवन को देखने कोई पंचायत प्रतिनिधि व सरकारी कर्मी ही आते हैं जबकि सरकार भवन में धीरे-धीरे अतिक्रमणकारियों का भी कब्जा होते जा रहा है । संवाददाता के द्वारा समाचार संकलन के दौरान देखा गया कि पंचायत सरकार भवन में एक परिवार के लोग रूम का ताला तोड़कर अंदर में वर्षों से रह रहे हैं । जबकि पंचायत सरकार भवन का निर्माण 2014 – 15 में ही तत्कालीन मुखिया के द्वारा किया गया लेकिन विडंबना यह है कि भवन बनने के बाद ना तो अब तक उद्घाटन हुआ और ना ही इसमें एक भी दिन पंचायत से संबंधित किसी प्रकार का कार्य को निष्पादित किया गया है । जबकि राज्य सरकार के द्वारा प्रत्येक पंचायत में एक करोड़ से अधिक की लागत से पंचायत सरकार भवन निर्माण के लिए राशि मुहैया कराई गई तो वही पंचायत सरकार भवन में टाइल्स, खिड़की का शीशा,विद्युत बोर्ड , तार व अन्य सामग्री तोड़ कर चोर चुरा ले गए हैं । वही भवन के अंदर मानव व जानवर के मल मुत्रों से पटा दिखा, मानों शौचालय बना है।आस पास के ग्रामीणों में सत्यनारायण कुसियेत, भुटाई यादव,रामानंद बहरदार,आदि ने बताया कि लगभग यह सरकार भवन को बने 7 वर्ष हो चुके हैं, लेकिन अब तक इस भवन का उद्घाटन नहीं हुआ है,और ना ही किसी पदाधिकारी ने आकर इस करोड़ों की लागत से बने भवन का जायजा लिया.

पंचायत सचिव ब्रह्मदेव यादव ने बताया कि इस भवन को खोलने का प्रयास अथवा मरम्मत करने का कोशिश किए लेकिन स्थानीय लोगों ने नहीं करने दिया. वहीं अंचरा पंचायत के उपमुखिया प्रतिनिधि पप्पू कुमार वर्मा ने बताया कि यह सरकार भवन करोड़ों की लागत से बना था,जिसमें आज तक किसी पदाधिकारी ने ध्यान नहीं दिया। जिस कारण इस भवन में लगभग 10 लाख की छति हुआ है। यहां तक की बाबा ने लगभग 7 वर्ष हो चुके हैं आज तक इसका देखरेख करने वाला कोई सुरक्षा गार्ड को भी नहीं लगाया गया। सरकार भवन को चालू नहीं होने से लोगों को जाति,आय,निवास, पेंशन योजना, आवास योजना, राशन कार्ड आदि पंचायत से जुड़े कार्यों के लिए नरपतगंज प्रखंड कार्यालय में चक्कर लगाना पड़ता है,लेकिन इस ओर किसी पदाधिकारी या जनप्रतिनिधि का ध्यान नहीं है. इस बाबत प्रखंड विकास पदाधिकारी नरपतगंज से जानकारी लेना चाहा उन्होंने फोन रिसीव नहीं किए।