हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत पर फूटा युवाओं का गुस्सा।

अररिया(रंजीत ठाकुर): उत्तर प्रदेश के हाथरस में करीब दो हप्ते पहले 19 वर्षीया युवती के साथ सामूहिक बलात्कार कर जिस प्रकार दरिंदगी की गई और वह जिस प्रकार प्रताडना का शिकार हुई,पूरा देश गुस्से से उबल रहा है।पीड़िता ने सफदरजंग अस्पताल,दिल्ली में कल दम तोड़ दिया।पूरा देश इंसाफ और गुनाहगारों को कठोर सजा की मांग करता है। इसी कड़ी में आज 30 सितंबर ,बुधवार को भंगही पंचायत के आक्रोशित युवाओं ने मृतका की आत्मा की शांति एवं इंसाफ की मांग को लेकर स्थानीय भोड़हर हाट,शिव मंदिर से भोड़हर चौक तक पैदल कैंडल मार्च निकाला। कैंडिल मार्च सम्पन्न होने के बाद इन युवाओं का रोष बाहर आया। अपना रोष जाहिर करते हुए भंगही पंचायत के युवा समाजसेवी दीप प्रकाश यादव ने कहा कि जिस देश में स्त्री की तुलना मां दुर्गा की जाती हो,जिस देश में स्त्री की पूजा की जाती हो,उसी देश में इस तरह का घिनौना कुकृत्य को हम कभी सहन नहीं करेंगे।वहीं उन्होंने अपना गुस्सा उत्तर प्रदेश प्रशासन तथा सरकार पर भी निकाला। उन्होंने कहा कि प्रशासन सिर्फ दर्शक बनकर तमाशा देखने का काम करती है।अगर समय पर प्रशासन ने ध्यान दिया होता तो शायद आज वह जिंदा होती। वहीं इस घटना पर वहीं समाजसेवी महेश मेहता और भोलारंजन साह ने भी अपना रोष व्यक्त किया। महेश मेंहता ने कहा कि हमारे देश में जहां नारियों का आदर करना हमारी परंपरा हो,वहां ऐसे कुकृत्य के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए तथा ऐसे दरिंदों के लिए फांसी की सजा भी कम होगी। वहीं भोला रंजन साह ने कहा जिस समाज में स्त्री का सम्मान नहीं होता उस समाज का पतन शीघ्र निश्चित है। इसलिए नारी का सम्मान को यदि कोई छूता भी है,तो ऐसे कानून बने कि ऐसे हाथों को उसी वक्त तोड़ दिये जाने चाहिए। वहीं इस मौके पर नवीन झा,रूपेश साह,मनीष मारकोन,राकेश यादव ,मनीष कुमार, अवधेश मंडल,प्रभु मंडल,सुरेन्द्र यादव,राजकुमार साह,दीपक साह, मनीष कुमार साह, डब्लू कुमार झा,प्रिंस कुमार झा, तुपेश कुमार साह,रंजीत रजक आदि दर्जनों युवा मौजूद मौजूद रहे।