स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे के इस्तीफे की मांग को लेकर माले का प्रदर्शन

फुलवारीशरीफ(अजित यादव): पूरे बिहार मे तेजी से फैल रहे कोरोना का संक्रमण के बावजूद जांच और इलाज के अभाव मे लोगों की मौत से नाराज भाकपा माले ने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय को हटाने की मांग को लेकर व्यापक प्रदर्शन किया. संपत चक में भाकपा माले ने हेल्थ मिनिस्टर मंगल पाण्डेय का पुतला फूंक सरकार से बर्खास्तगी की मांग की वही फुलवारी के खोजा इमली के पास माले कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन कर नारेबाजी की. फुलवारी शहर में खोजा इमली ,सकरैचा ,सलारपुर धनकी शोरमपुर , परसा अब्दुल्लाह चक आदि कई गावो में प्रदर्शन किया गया |इसमें साधू शरण , गुरुदेव दास , लेलिन पासवान देवीलाल पासवान मंटू सहाब राज कुमार राय आदि शामिल रहे| वहीँ सम्पतचक के बैरिया गोपालपुर कण्डाप भेलवाडा के गांव मे विरोध प्रदर्शन में सत्यानंद कुमार रामशिगार पासवान सुरेश सिंह धनराज पासवान सिभीषण आर्य सरयुग दास सुभाष दास किशोर दास बिकास दास चन्दु पासवान सुरेश चंद्र ठाकुर छेछन राम ग्यानचन्द दास केवल राम संदीप कुमार यादव राना विश्वनाथ सिंह सिभीषण आर्य रामबाबू केवट इत्यादि लोग शामिल थे.

माले नेताओं ने कहा को लॉक डाउन के बावजूद कोरोना महामारी से रोजाना दर्जनो लोग बेमौत मारे जा रहे है और भाजपा जदयू की सरकार चुनाव चुनाव खेलने मे मस्त है. 6 महिने बीत गए लेकिन सरकार ने जांच इलाज रोजी रोज़गार किसी मामले मे कोई उल्लेखनीय काम नही किया. एक दिवसीय बिरोध में बिहार के जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वाले स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय को हटाने , तमाम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रो तक कोरोना की जांच और प्राथमिक उपचार की व्यस्था करने ,तमाम अनुमंडल और जिला अस्पतालो मे कोरोना के समुचित इलाज और आईसीयू की व्यवस्था करने एवं तमाम मेडिकल कॉलेजो मे आईसीयू बेड की पर्याप्त व्यवस्था के साथ ही निजी अस्पतालो को सरकार अपने नियंत्रण मे लेकर वहा सरकारी खर्च पर कोरोना के इलाज की व्यवस्था करने की पुरजोर मांग की गयी है. इसके आलावा बिना मास्क वाले राहगीरो से पैसा बसुलना बंद करके उन्हें मुफ्त में मास्क उपलब्ध कराये जाने ,इन्कम टेक्स के दायरे से बाहर के परिवारो को 6 महिने तक हर महीने 7500/-रू गुजारा ,तमाम जरूरत मंद परिवारो को 6 महिने तक हर महीने प्रति व्यक्ति 10 किलो अनाज देने ,प्रवासी सहित गांव व शहर के तमाम मजदूरो को उनकी योग्यता के अनुसार काम की गारंटी देने की मांग भी की गयी है।