सिमराहा थानाक्षेत्र में फंदे से लटका मिला महिला कांस्टेबल का शव!

अररिया(रंजीत ठाकुर): सिमराहा थाना में पदस्थापित महिला कॉन्स्टेबल के संदेहास्पद मौत का मामला शुक्रवार सुबह प्रकाश में आते ही ग्रामीण सहित पुलिस महकमे में हडकंप मच गया। वहीं सिमराहा थाना में पदस्थापित 2018 बैच की मुंगेर निवासी महिला कॉन्स्टेबल 25 वर्षीय श्रुति कुमारी पति गौरव कुमार इसी वर्ष फरवरी माह में सिमराहा थाने में महिला सिपाही के रूप में अपना योगदान किया था। वह थाना से महज कुछ दुर पर झिरवा पुरवारी पंचायत के सिमराहा बजार बाड़ी बस्ती वार्ड संख्या 13 में उमेश पासवान पिता नुनलाल पासवान के मकान में किराए पर रहती थी। इसी मकान के दूसरे हिस्से में मकान मालिक सह परिवार रहता है। इधर घटना की खबर मिलते ही घटना स्थल पर सैकड़ों की संख्या में लोग उमड़ पड़े। घटना को लेकर लोगों में अलग अलग तरह की चर्चाओं का दौर शुरू है। कोई इसे आत्महत्या तो कोई इसे साजिश के तहत हत्या बता रहा है. बहरहाल मामला जो भी हो यह जाँच का विषय है।

दुपट्टे से लटकी हुई थी कॉन्स्टेबल

श्रुति कुमारी सुबह जब थाना परिसर नहीं आई तो साथी महिला कॉन्स्टेबल द्वारा सुबह लगभग 9 बजे कई बार फोन की किया गया जो रिसीव नहीं करने पर उनके साथी ने उनका दरवाजा खटखटाया जो अंदर से बंद था। कोई जवाब नहीं देने पर इन लोगों ने अंदर झाँक कर देखा तो श्रुति की लाश काले रंग के दुपट्टा से बनाए गए फंदे से लटक रही थी। उसके बाद थाना अध्यक्ष व अन्य को जानकारी दी गई।

घटना स्थल पर पहुंचे वरीय अधिकारी-


घटना की सूचना मिलते ही जिला पुलिस अधीक्षक ह्रदय कांत, फारबिसगंज डीएसपी गौतम कुमार, अंचलाधिकारी फारबिसगंज संजीव कुमार, महिला थाना अध्यक्ष रीता कुमारी, पुलिस एशोसिएशन के जिलाध्यक्ष बबलू कुमार व अन्य मौके पर पहुंच कर जांच-पड़ताल किया तथा मकान मालिक के परिवार से पूछताछ की। घटना स्थल से शव को देखने के बाद एसपी ने थाना पहुंच कर थाना अध्यक्ष व अन्य पुलिस कर्मी से मृत कांस्टेबल के बारे में आवश्यक पूछताछ की।

एसपी ने बताया-

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अब तक प्राप्त जानकारी अनुसार मृत कॉन्स्टेबल पिछले दो-तीन दिनों से डिप्रेशन में थी। उनके परिवार का कोई सदस्य अब तक नहीं पहुंच सका है। फॉरेंसिक टीम भी आ रही है। इस लिए अभी ये अस्पष्ट नहीं है कि श्रुति की मौत कैसे हुई। समाचार लिखे जाने तक मृत महिला पुलिस कॉन्स्टेबल की लाश को पोस्टमार्टम के लिए नहीं भेजा गया था।