साला बहनोई ने शौच कर लौट रही किशोरी से किया दुष्कर्म का प्रयास!

मसौढी: थाना क्षेत्र के एक गांव के बधार से बिते बुधवार की शाम शौच कर धर लौट रही 16 वर्षीया एक किशोरी के साथ गांव के ही एक युवक व उसके अधेड़ बहनोई ने दुष्कर्म का प्रयास किया। किशोरी द्वारा हल्ला करने पर मौके पर उसका भाई व अन्य ग्रामीणों को आते देख आरोपित उसे छोड़ भाग निकले। इधर इस संबंध में किशोरी ने गुरुवार को थाना मैं गांव के दुखन यादव व उसके बहनोई सह नालंदा जिला के हिलसा थाना क्षेत्र के चंदरबीघा ग्रामवासी बौरंगी प्रसाद के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है।घटना का कारण पूर्व में दोनों पक्षों के बीच हुए विवाद और आरोपी पक्ष द्वारा दी गई धमकी बताया जा रहा है। इधर पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।बीते बुधवार की देर शाम किशोरी अपने गांव से पश्चिम उत्तर बधार से शौच कर अपने घर लौट रही थी। आरोप है कि इसी दौरान आरोपित वहां आ धमके और दुष्कर्म करने की नियत से उसे गोद में उठाकर ले जाने लगे। किशोरी द्वारा विरोध करने पर उन्होंने उसके साथ मारपीट भी की।इधर किशोरी द्वारा हल्ला करने पर मौके पर पहुंचे उसके भाई व अन्य ग्रामीणों को देख आरोपित उसे छोड़कर फरार हो गया। इधर बाद में पीड़ित पक्ष की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की। लेकिन दोनों आरोपी फरार थे।इधर थानाध्यक्ष रंजीत कुमार रजक ने बताया कि घटना का कारण पूर्व से दोनों पक्षों के बीच चला आ रहा विवाद है।कुछ माह पूर्व धान की रोपनी करने से मना करने पर आरोपी पक्ष ने दो बार घर पर चढ़कर उसके स्वजनों के साथ मारपीट की थी और अंजाम भुगतने की धमकी भी दी थी।
आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पीड़ित पक्ष व ग्रामीणों गुरुवार की सुबह पहले धनरूआ थाना के सकरपुरा के पास पटना गया मुख्य सड़क मार्ग एनएच 83 को कुछ देर के लिए जाम कर दिया। वहां से एसडीपीओ कार्यालय का घेराव करने पहुंचे। लेकिन मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें बल प्रयोग कर भगा दिया। इस दौरान पुलिस व ग्रामीणों के बीच तीखी नोकझोंक व हाथापाई भी हुई।ग्रामीणों का आरोप था कि बीते बुधवार की देर रात आरोपी पक्ष पीड़ित के घर पर चढ़कर केस नहीं करने की धमकी दी थी और जब उन्होंने देर रात पुलिस को इसकी सूचना देने का प्रयास किया तो पुलिस ने मोबाइल नहीं उठाया। *पहले दुष्कर्म की बात कही, फिर दुष्कर्म के प्रयास की शिकायत की थानाध्यक्ष रंजीत कुमार रजक ने बताया कि बीते बुधवार की रात से सुबह तक पीड़ित पक्ष दुष्कर्म का आरोप लगाता रहा।लेकिन जब उसे जानकारी हुई कि दुष्कर्म के मामले में किशोरी की मेडिकल जांच कराई जाएगी तो उसने दुष्कर्म के प्रयास का आरोप लगा प्राथमिकी दर्ज कराई। थाना अध्यक्ष ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है और आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जा रही है। शौच कर लौट रही किशोरी से किया दुष्कर्म का प्रयास मसौढी थाना क्षेत्र के एक गांव के बधार से बिते बुधवार की शाम शौच कर धर लौट रही 16 वर्षीया एक किशोरी के साथ गांव के ही एक युवक व उसके अधेड़ बहनोई ने दुष्कर्म का प्रयास किया। किशोरी द्वारा हल्ला करने पर मौके पर उसका भाई व अन्य ग्रामीणों को आते देख आरोपित उसे छोड़ भाग निकले। इधर इस संबंध में किशोरी ने गुरुवार को थाना मैं गांव के दुखन यादव व उसके बहनोई सह नालंदा जिला के हिलसा थाना क्षेत्र के चंदरबीघा ग्रामवासी बौरंगी प्रसाद के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है।घटना का कारण पूर्व में दोनों पक्षों के बीच हुए विवाद और आरोपी पक्ष द्वारा दी गई धमकी बताया जा रहा है। इधर पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।बीते बुधवार की देर शाम किशोरी अपने गांव से पश्चिम उत्तर बधार से शौच कर अपने घर लौट रही थी। आरोप है कि इसी दौरान आरोपित वहां आ धमके और दुष्कर्म करने की नियत से उसे गोद में उठाकर ले जाने लगे। किशोरी द्वारा विरोध करने पर उन्होंने उसके साथ मारपीट भी की।इधर किशोरी द्वारा हल्ला करने पर मौके पर पहुंचे उसके भाई व अन्य ग्रामीणों को देख आरोपित उसे छोड़कर फरार हो गया। इधर बाद में पीड़ित पक्ष की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की। लेकिन दोनों आरोपी फरार थे।इधर थानाध्यक्ष रंजीत कुमार रजक ने बताया कि घटना का कारण पूर्व से दोनों पक्षों के बीच चला आ रहा विवाद है।कुछ माह पूर्व धान की रोपनी करने से मना करने पर आरोपी पक्ष ने दो बार घर पर चढ़कर उसके स्वजनों के साथ मारपीट की थी और अंजाम भुगतने की धमकी भी दी थी। आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पीड़ित पक्ष व ग्रामीणों गुरुवार की सुबह पहले धनरूआ थाना के सकरपुरा के पास पटना गया मुख्य सड़क मार्ग एनएच 83 को कुछ देर के लिए जाम कर दिया। वहां से एसडीपीओ कार्यालय का घेराव करने पहुंचे। लेकिन मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें बल प्रयोग कर भगा दिया। इस दौरान पुलिस व ग्रामीणों के बीच तीखी नोकझोंक व हाथापाई भी हुई।ग्रामीणों का आरोप था कि बीते बुधवार की देर रात आरोपी पक्ष पीड़ित के घर पर चढ़कर केस नहीं करने की धमकी दी थी और जब उन्होंने देर रात पुलिस को इसकी सूचना देने का प्रयास किया तो पुलिस ने मोबाइल नहीं उठाया। पहले दुष्कर्म की बात कही, फिर दुष्कर्म के प्रयास की शिकायत की।थानाध्यक्ष रंजीत कुमार रजक ने बताया कि बीते बुधवार की रात से सुबह तक पीड़ित पक्ष दुष्कर्म का आरोप लगाता रहा।लेकिन जब उसे जानकारी हुई कि दुष्कर्म के मामले में किशोरी की मेडिकल जांच कराई जाएगी तो उसने दुष्कर्म के प्रयास का आरोप लगा प्राथमिकी दर्ज कराई। थाना अध्यक्ष ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है और आरोपितों की गिरफ्तारी की जा रही है।