श्रुति के मौत मामले में फरार दरोगा के गिरफ्तारी नही होने से पुलिस के निष्पक्ष रवैये पर उठ रहा है सवाल : राजेश शर्मा

अररिया(रंजीत ठाकुर): सिमराहा थाना में कार्यरत कॉन्स्टेबल श्रुति के मौत के बाद नरपतगंज थाना अध्यक्ष किंग कुन्दन पर लगे आरोप के बाद नाटकीय ढंग से फरार दरोगा की गिरफ्तारी के लिए पुलिस के द्वारा बरते जा रहे सुस्त रवैये से जिला पुलिस की कार्यशैली पर भी प्रश्न चिन्ह उठ रहा है ।उक्त बातें भारत नेपाल सामाजिक संस्कृति मंच के अध्यक्ष राजेश कुमार शर्मा ने कही है मंच के अध्यक्ष श्री शर्मा ने कहा कि श्रुति की मौत की खबर परोशी देश नेपाल के भी कई मीडिया हाउस ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था ।वही नरपतगंज थाना अध्यक्ष पर मामला दर्ज होने के साथ ही फरार होने के बाद अब तक गिरफ्तारी नहीं होने से एक नकारात्मक संदेश जा रहा है । जो चिन्ता का बिषय है जबकि मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार जिले के ही कई लोग के सम्पर्क में अभी भी किंग कुन्दन को बताया जा रहा है ।वही इस मामले में पुलिस के द्वारा बरती जा रही शिथिलता से सीमा के उस पार के लोगो मे भी चर्चा का बिषय बन रहा है ।मंच के अध्यक्ष ने कहा कि दोनों देश मे बेटी रोटी का संबंध है नेपाल की बेटियां भारत मे ब्याही जाती है तो भारत की बेटियां नेपाल की बहू बनती है ऐसे में अगर जिला पुलिस की महिला जवान के मौत के मामले को पुलिस गंभीरता पुर्वक नही लेती है तो ऐसे में आम जन सहित अन्य लोगो मे पुलिसिंग पर सवाल उठता है।अररिया पुलिस कप्तान से मांग किया है कि आरोपी थाना अध्यक्ष की जल्द से जल्द गिरफ्तारी हो ।वही मंच के अध्यक्ष ने कहा कि अगर आरोपी की गिरफ्तारी नही होगी इस मामले को लेकर बिहार पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे से बात कर आरोपी की गिरफ्तारी की भी मांग करेंगे। वही इस मामले को लेकर नागरिक समाज के अध्यक्ष ने भी सवाल खड़ा किया है.

बृहत मदेशी नागरिक समाज बिराटनगर के अध्यक्ष सुर्यनाथ सिंह कुशवाहा ने महिला कॉन्स्टेबल के मौत पर अफसोस जताते हुए कहा कि सीमा से सटे जिला अररिया में नवनियुक्त पुलिस कप्तान जब कमान संभाले थे तो आशा थी कि सीमाँचल पूर्ण रूप से निष्पक्ष रूप से न्याय के लिए खड़ा उतरेगा लेकिन एक महिला सिपाही की मौत के बाद ऐसा लगता है कि आरोपी दारोगा को पुलिस पकड़ने के बजाय बचाने का प्रयास कर रही है ।नागरिक समाज के अध्यक्ष श्री सिंह ने कहा कि जहाँ एक तरफ भारत के प्रधानमंत्री बिहार के मुख्यमंत्री बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ का नारा देती है ऐसे में एक बेटी की मौत पर सुस्त करवाही निन्दनीय है।