श्याम रजक दलितों के हितैषी का ढोंग कर रहे : अरुण मांझी

पटना(अजित यादव): जदयू के पूर्व विधायक और फुलवारी शरीफ विधानसभा क्षेत्र से आगामी विधानसभा में फुलवारी शरीफ से चुनाव लड़ने के लिए मैदान में कूदे अरुण मांझी ने पूर्व मंत्री श्याम रजक पर दलितों के हितैषी होने का ढोंग करने का आरोप लगाया है. फुलवारी के इसमाईलपुर के पास एक कॉलेज में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करते हुए अरुण मांझी ने कहा की पार्टी ने जब वर्ष 2015 में चुनावो में उनका टिकट महागठबंधन के चलते काट दिया तो उसके बावजूद वे जदयू में रहकर सीएम नीतीश कुमार का साथ नही छोड़े लेकिन इस बार अभी टिकट क्लियर भी नही हुआ था बल्कि चर्चा चल रही थी की श्याम रजक को फुलवारी शरीफ से पार्टी चुनाव नही लड़ाएगी तो वे आनन फानन पुराने घर राजद में चले गये. पूर्व विधायक अरुण मांझी ने पूर्व मंत्री श्याम रजक पर अरोप लगाते हुए कहा की पहले राजद और फिर जदयू में कई वर्षो तक मंत्री रहते हुए कभी दलितों के उत्थान के लिए कोई बड़ा काम नही किये. कहा की वे मसौढ़ी से ही चुनाव की तैयारी में लगे थे लेकिन सीएम नीतीश कुमार ने उन्हें फुलवारी से चुनाव लड़ने की तैयारियो में जुट जाने को कहा है. उन्होंने कहा की वे सीएम नितीश कुमार के साथ थे और आगे भी रहेंगे. मौका परस्त नेताओं से सावधान रहने की कार्यकर्ताओं से अपील किया. श्री मांझी ने कहा पूर्व विधायक उदय मांझी पर भी जमकर हमला बोला और कहा की एक शिक्षा मित्र से उन्हें पार्टी ने कहा से कहा तक पहुंचा दिया लेकिन वे भी पार्टी छोड़कर चले गये. अरुण मांझी ने कहा की  पूर्व विधान सभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी को पार्टी ने दस साल तक विधान सभा का अध्यक्ष बनाया फिर भी वे सीएम नीतीश कुमार के प्रति वफादार नही रहे. बैठक में जदयू के प्रखंड अध्यक्ष राम प्रवेश सिंह, शत्रुध्न पासवान, पूर्व मुखिया शैलेन्द्र कुमार, रविन्द्र कुमार, फुद्दू सिंह सहित बड़ी संख्या में जदयू कार्यकर्त्ता मौजूद रहे।