राजस्थान से पैदल ही पटना के फुलवारी पहुँच गये चार मजदुरों को पुलिस ने दिया खाना-पानी

फुलवारीशरीफ(अजित यादव): राज्य पुलिस मुख्यालय की पहल पर पटना की पुलिस ने अब सडको पर दूर से पैदल चले आ रहे , लावारिस लोगों और सड़क किनारे घुमंतू रहने वालों के बीच मास्क खाना और पानी के पैकेट्स वितरित कर अपनी छवी सुधारने के काम में भी जुट गयी है | कोरोना के बढ़ते खतरे से बिहार के लोगों को बचाने के लिए लॉक डाउन का पालन कराने में डंडे का इस्तेमाल करने वाली पुलिस अब डीजीपी के फरमान के बाद लोगों की सेवा में भी बढचढ कर हिस्सा ले रही है | शनिवार को फुलवारी शरीफ थाना के एसएचओ रफिकुर रहमान सडक किनारे झोपड़ियो में रहने वाले वैसे परिवारों के बीच खाना पानी के पैकेट्स , मास्क आदि का वितरण किया जो घूम घूम कर इलाके में सामानों को बेचकर अपनी आजीविका चलाते थे | लॉक डाउन में ऐसे घुमंतू परिवारों के सामने रोरी रोटी के लाले पड़ गये हैं उन्हें पुलिस की मदद से फौरी राहत पहुंचाई जा रही है | इसी दौरान चार मजदुर युवक पैदल ही हाईवे पर आते हुए मिले जिनसे पूछताछ में पता चला की ये लोग रक्सौल के रहने वाले हैं और राजस्थान के फैक्टरियों में काम करते थे | लॉक डाउन के बाद ये लोग वहां से पैदल ही बिहार के लिए चल पड़े | फुलवारी शरीफ पहुँचने पर पुलिस ने खाना पानी और मास्क दिया तो इनके चेहरे खिल गये | कई दिनों से भूखे प्यासे चार मजदूरों ने पुलिस की इस नेक कार्य की सराहना करते हुए कहा की हम भी बिहारी है लेकिन अपने बिहार की सीमा में आने के बाद भी लोग कहीं बैठने खाने के लिए नही पूछ रहे थे | फुलवारी शरीफ शहीद भगत सिंह चौक से पटना हाई स्कूल आइसोलेशन कराने जाने के दौरान पत्रकारों की नजर जब इन मजदूरों पर पड़ी तो बताया की राजस्थान से चले आ रहे हैं | वहीँ धुप और धुल से मुरझाये चेहरे देख पत्रकारो ने जब खाने के बारे में पूछा तो कहा की अभी पुलिस ने खाना और पीना दिया है | ख़ुशी के चंद पलों को साझा करने के बाद पत्रकारों ने मजदूरो को पटना हाई स्कूल जाने के रास्ते बताये और आइसोलेशन कराने पर जोर दिया।