राजकीय वाहन चालक महासंघ का हुआ द्विवार्षिक अधिवेशन

बलिया(संजय कुमार तिवारी): राजकीय वाहन चालक महासंघ का द्विवार्षिक अधिवेशन रविवार को विकास भवन सभागार में हुआ। मुख्य अतिथि अपर जिलाधिकारी रामआसरे की मौजूदगी में सर्वसम्मति से अनिल सिंह को अध्यक्ष, हरिंदर यादव का उपाध्यक्ष तथा दशरथ यादव को जिला मंत्री बनाया गया। वहीं, वीरेंद्र यादव व जितेंद्र सिंह कनिष्ठ मंत्री, इकरामुद्दीन खान संयुक्त मंत्री, हीरालाल यादव संगठन मंत्री, कन्हैया सिंह प्रचार मंत्री, अक्षयवर नाथ पांडे वरिष्ठ उप मंत्री, रामाशंकर कोषाध्यक्ष, कमलेश दुबे ऑडिटर, जगदीश यादव संरक्षक और कृष्ण कुमार शर्मा सलाहकार के रूप में चुने गए। इसी अधिवेशन के दौरान कलेक्ट्रेट वाहन चालक संघ का भी चुनाव हुआ। इसमें सर्वसम्मति से अनिल कुमार शर्मा को अध्यक्ष तथा भारद्वाज मुनि को मंत्री चुना गया। इसके अलावा ददन सिंह को उपाध्यक्ष, धर्मेंद्र राम को उप मंत्री, सुनील यादव को कोषाध्यक्ष, कन्हैया सिंह को प्रचार मंत्री, कवींद्र सिंह को ऑडिटर, अशोक सिंह को संगठन मंत्री, जगदीश यादव को संरक्षक व हृदयानंद मौर्य को सलाहकार के रूप के चुना गया।

द्विवार्षिक अधिवेशन को संबोधित करते हुए एडीएम रामआसरे ने जिस प्रकार योद्धा के लिए सबसे महत्वपूर्ण उसका सारथी होता है, उसी प्रकार सरकारी सिस्टम में वाहन चालक भी सबसे महत्वपूर्ण अंग में एक होते हैं। आश्वस्त किया कि कर्मचारियों के हित को हमेशा सर्वोपरि रखा जाएगा। कर्मचारी नेता अविनाश उपाध्याय ने भरोसा दिलाया कि वाहन चालक संघ व अन्य कर्मचारियों के हितों की रक्षा के लिए हमेशा अगली कतार में खड़े रहेंगे। प्रदेश कलेक्ट्रेट संघ के जोनल अध्यक्ष कौशल उपाध्याय ने साफ किया कि किसी भी कर्मचारी के साथ कोई आने में हुआ तो उनके लिए कुछ भी करने को तैयार रहेंगे। पोस्ट ऑफिस के कर्मचारी नेता अजय सिंह, बेसिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष जितेंद्र सिंह, सफाईकर्मी संघ के जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर यादव समेत वहां मौजूद कर्मियों ने नवनियुक्त सभी पदाधिकारियों को बधाई शुभकामनाएं दी। इस दौरान कलेक्ट्रेट वाहन चालक संघ के नवनियुक्त अध्यक्ष अनिल शर्मा ने कहा कि वाहन चालकों के साथ कभी भी कोई अन्याय हुआ तो अध्यक्ष होने के नाते उनकी पहली लड़ाई मेरे यहां से शुरू होगी। अंत में सभी नवनियुक्त पदाधिकारियों को शपथ दिलाई गई। इस दौरान सिंचाई विभाग, नलकूप, शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, स्वास्थ्य विभाग समेत अन्य कई विभागों के कर्मचारी नेता मौजूद थे।