यूपी की तर्ज पर झारखंड के डीजीपी ने कहा ठोक देंगे

धनबाद(न्यूज़ क्राइम24): दुमका इस समय देश भर में यूपी पुलिस द्वारा अपराधियों को ‘ठोक देंगे’ की कार्यशैली चर्चा में है। इससे दूसरे राज्यों की पुलिस प्रभावित भी हो रही है। अब यूपी पुलिस की तर्ज पर झारखंड पुलिस भी ठोक देने की वकालत की है। झारखंड के डीजीपी एमवी राय ने कहा है कि अवैध हथियार से अपराध करने वाले अपराधियों को मारने में पुलिस जरा भी नहीं हिचके। अगर समय पर उनका इलाज नहीं किया गया तो वे जनता के लिए परेशानी का कारण बन जाएंगे। पुलिस ऐसे अपराधियों को मार गिराए। अगर कोई कानूनी अड़चन आती है तो उसे देख लिया जाएगा। पुलिस को अब सोचने की जरूरत नहीं

डीजीपी (Mandava Vishnu Rao) ने गुरूवार को दुमका पुलिस सभागार में जिले के पुलिस पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इस दाैरान उन्होंने अपराधियों से निपटने के लिए खुली छूट दी। कहा- अवैध हथियार लेकर चलने वाले अपराधियों से अब कड़ाई से निबटा जाएगा। पहले पुलिस इस बात से डरती थी कि गोली चलाएंगे तो कानूनी परेशानियों का सामना करना होगा। अब यह सब सोचने की जरूरत नहीं है। कानून को मानने वालों की सुरक्षा हमारा पहला दायित्व है। अपराधी पूजा करने के लिए हथियार लेकर नहीं चलते हैं। वे जान लेने के लिए ही हथियार निकालते हैं। गोली चलाते हैं। ऐसे लोगाें को मार गिराएं। किसी तरह की कानूनी अड़चन नहीं आएगी। जो होगा हम देख लेंगे। जनता की रक्षा के लिए पीछे नहीं हटें।

रंगदार मुन्ना राज को जवाब दिया जाएगा-

शिकारीपाड़ा के रंगदार मुन्ना राय के बारे में कहा कि उसे लक्ष्य मानकर खोजा जा रहा है। जिस भाषा का उपयोग उसने किया है, उसी भाषा में जबाव दिया जाएगा। पुलिस पदाधिकारियों से कहा कि अगर कोई भी वसूली जैसे कार्य में शामिल मिलेगा तो सीधे कार्रवाई की जाएगी। अगर किसी के पास अपराधियों के बारे में कोई भी जानकारी रहती है तो वह उनके मोबाइल नंबर 9431106363 पर सूचना दे सकता है। बड़ी उपलब्धि दिलाने वाले आम लोगों को का नाम गुप्त रखा जाएगा। उसे घर जाकर चुपचाप पुरस्कार दिया जाएगा। सुरक्षा भी दी जाएगी। कहा कि माओवादियों संख्या में काफी कमी आई है। जो बच गए हैं उनके लिए योजना बनाकर काम किया जा रहा है। एसएसबी को इसके लिए आवश्यक निर्देश भी दिए गए हैं। बैठक में आइजी आपरेशन साकेत कुमार, डीआइजी सुदर्शन प्रसाद मंडल, एसपी अंबर लकड़ा, एसएसबी के द्वितीय कमान पदाधिकारी सतीश कुमार, सहायक कमांडेंड ललित साह, नरपत सिंह, डीएसपी विजय कुमार, नूर मुस्तफा अंसारी, अनिमेष नथानी व अभियान एएसपी आरसी मित्रा मौजूद थे।